चिंता: प्रधानमंत्री मोदी की कोरोना पर समीक्षा बैठक, किशोरों के वैक्सीनेशन पर जोर देने को कहा 

January 9th, 2022

हाईलाइट

  • पिछले 24 घंटो में कोरोना वायरस के 1 लाख 59 हजार 632 नए मामले सामने आए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामले तथा तीसरी लहर और लॉकडाउन की आशंकाओं के बीच पीएम मोदी ने रविवार को एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की।

प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा इस बैठक से जुड़े। इस समीक्षा बैठक में पीएमओ के अधिकारियों के अलावा, गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया, कैबिनेट सचिव राजीव गाबा, गृहसचिव अजय भल्ला, स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण, आईसीएमआर के डीजी समेत कई अधिकारी मौजूद रहे। 

वैक्सीनेशन तेज करने को कहा

 बैठक में पीएम मोदी ने जिलास्तर पर स्वास्थ्य सेवाओं की तैयारियां सुनिश्चित करने को कहा। इसके लिए उन्होंने अधिकारियों से राज्यों के साथ समन्वय बनाए रखने की बात कही। पीएम ने इस दौरान 15 से 18 साल की उम्र के किशोरों के वैक्सीन अभियान को और तेज करने का आग्रह किया।

इसके अलावा जहां ज्यादा मामले आ रहे हैं, वहां कनटेमेंट और एक्टिव सर्विलांस पर खास जोर जारी रहे और जिन राज्यों से अधिक केस सामने आ रहे हैं, उन्हें जरूरतों के अनुसार टेक्निकल सपोर्ट उपलब्ध कराया जाए।

बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, "कोरोना वायरस बदल रहा है, इसलिये जांच, टीकाकरण और जीनोम अनुक्रमण सहित निरंतर औषधीय शोध की आवश्यकता है।" 

प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार, पीएम मोदी जल्द ही राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ बैठक करेंगे, जहां वह कोरोना के हालातों की उच्चस्तरीय समीक्षा करेंगे। 

कोरोना ने पकड़ी रफ्तार 

पिछले 24 घंटो में  कोरोना वायरस के 1 लाख 59 हजार 632 नए मामले सामने आए, जो बीते 224 दिनों में सबसे ज्यादा है। इस दौरान 327 लोगों की मौत हुई वहीं 40,000 से ज्यादा लोग रिकवर हुए हैं।

वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कुल 552 नए मामले रिपोर्ट किए गए।  देश में इससे संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 3,623 हो गई है। वहीं, इस वैरिएंट से संक्रमित 1,409 मरीज ठीक भी हो चुके हैं।

देश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 5 लाख 90 हजार 611 हो गई है। भारत में अब तक 4,83,790 लोग इससे अपनी जान गवां चुके है। राज्यों की बात करें तो महाराष्ट्र (41,434), दिल्ली (20,181) और बंगाल (18,802) में सबसे ज्यादा संक्रमित मिले हैं। दिल्ली में संक्रमण दर 23.53 फीसदी तक पहुंच गया है। 

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा ओमिक्रॉन के मरीज 

महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के सर्वाधिक 1,009 मामले है। इसके बाद दिल्ली में 513, कर्नाटक में 441, राजस्थान में 373, केरल में 333 और गुजरात में 204 मामले सामने आए।