comScore

बिनीश के घर चली 26 घंटे तक छापेमारी, परिवार ने लगाया यातना का आरोप

November 05th, 2020 17:00 IST
 बिनीश के घर चली 26 घंटे तक छापेमारी, परिवार ने लगाया यातना का आरोप

हाईलाइट

  • बिनीश के घर चली 26 घंटे तक छापेमारी, परिवार ने लगाया यातना का आरोप

तिरुवनंतपुरम, 5 नवंबर (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को केरल सीपीआई-एम के सचिव कोडियरी बालाकृष्णन के बेटे बिनीश कोडियरी के घर पर 26 घंटे तक चली छापेमारी की कार्रवाई खत्म कर दी।

बिनीश केरल सीपीआई-एम के सचिव कोडियरी बालाकृष्णन के बेटे हैं और पूरा परिवार इसी घर में एक साथ रहता है। हालांकि छापे के समय बालाकृष्णन घर में नहीं थे। 2 महिलाओं सहित कुछ रिश्तेदारों ने कहा कि वे घर के अंदर आकर परिवार से मिलना चाहते हैं क्योंकि बुधवार को छापेमारी शुरू होने के बाद से परिवारजन घर से बाहर नहीं निकले थे।

बालाकृष्णन की पत्नी की बहन होने का दावा करने वाली एक महिला ने मीडिया को बताया, छापेमारी को 24 घंटे से ज्यादा हो चुके हैं। हम उन्हें खाना भेज रहे हैं और जानना चाहते हैं कि उन लोगों ने खाना खाया या नहीं या ईडी टीम ने वह खाना खाया। उस समय घर में बिनीश की पत्नी, उसका 3 साल का बच्चा और उसके माता-पिता थे।

हंगामे के बाद केरल पुलिस के शीर्ष अधिकारी मौके पर पहुंचे और ईडी अधिकारियों के साथ बातचीत के बाद बाहर आकर रिश्तेदारों से कहा कि घर के अंदर के लोगों ने कहा है कि वे किसी से नहीं मिलना चाहते हैं। प्रदर्शनकारियों के जाने से इनकार करने पर बिनीश की सास ने बाहर आकर मीडिया से कहा, ईडी को छापेमारी में कुछ भी नहीं मिला है और टीम बार-बार खाने के लिए ब्रेक ले रही है, हम मानसिक यातना झेल रहे हैं।

रात भर चली छापेमारी के दौरान घर पर सीआरपीएफ और कर्नाटक के कुछ पुलिस अधिकारी रहे। छापेमारी पूरी करके बाहर निकले ईडी के अधिकारियों को स्थानीय पुलिस ने रोका और कहा कि बिनीश के परिवार ने शिकायत की है कि उन्हें जबरन बंद करके रखा गया। ईडी के अधिकारियों ने कहा कि वे अपने कार्यालय पहुंचने के बाद विस्तृत विवरण देंगे।

बिनेश की पत्नी ने भी आरोप लगाते हुए कहा कि ईडी के अधिकारी उन्हें एक कागज पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर कर रहे थे जिसमें कहा गया था कि उन्हें अनूप मोहम्मद का क्रेडिट कार्ड मिला है।

अनूप बिनीश के करीबी दोस्त और कारोबारी सहयोगी हैं। अभी वह नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा गिरफ्तारी के बाद न्यायिक हिरासत में हैं।

इस बीच बिनीश के तीन साल के बच्चे के यातना में रहने की जानकारी मिलने के बाद केरल राज्य बाल अधिकार आयोग के अधिकारी भी बिनीश के घर पहुंच गए। आयोग के अध्यक्ष ने कहा, हम इस मुद्दे पर गौर करेंगे, हम बच्चों के अधिकारों का हनन नहीं होने देंगे।

इस बीच केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने पार्टी मुख्यालय में बालाकृष्णन से मुलाकात की। बाद में पार्टी की बैठक भी हुई।

बिनीश धन शोधन निवारण अधिनियम (मनी लौंडरिंग एक्ट) के आरोपों के तहत गिरफ्तार हो चुके हैं और शनिवार तक ईडी की हिरासत में है।

एसडीजे-एसकेपी

कमेंट करें
L5JP2
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।