दैनिक भास्कर हिंदी: रेवाड़ी गैंगरेप: मुख्य आरोपी सहित 3 को 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया

September 17th, 2018

हाईलाइट

  • दो आरोपी अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर
  • जिला एसपी राजेश दुग्गल का किया तबादला
  • लड़की के इलाज को लेकर भी नहीं थम रहा विवाद

डिजिटल डेस्क, चंडीगढ़। हरियाणा के रेवाड़ी जिले में CBSE टॉपर छात्रा से गैंगरेप करने वाले तीन आरोपियों को 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। मुख्य आरोपी निशू के अलावा दीन दयाल और संजीव को सोमवार दोपहर सिविल कोर्ट में पेश किया गया। इससे पहले पुलिस ने रविवार को तीनों को गिरफ्तार कर लिया था, जबकि 2 आरोपी अब भी फरार हैं।

बता दें कि नीशू ने ही पूरी साजिश रची थी। दीनदयाल ने वारदात के वक्त आरोपियों की मदद की थी तो डॉक्टर संजीव को पता था कि आरोपियों ने लड़की को बेहोशी की दवा पिलाई है। पुलिस अब भी 2 मुख्य आरोपियों की तलाश कर रही है। इधर, प्रशासन ने जिला एसपी राजेश दुग्गल का भी तबादला कर दिया है।

 

 

सरकार ने एसपी राजेश दुग्गल की जगह अब राहुल शर्मा को रेवाड़ी का नया एसपी बनाया है। वहीं लड़की के इलाज को लेकर चल रहा विवाद भी थम गया है। डिप्टी कलेक्टर ने कहा कि लड़की का इलाज रेवाड़ी में होगा। लड़की के माता-पिता भी रेवाड़ी में इलाज कराने को लेकर सहमत हो गए हैं। सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा था कि सभी आरोपी जल्द ही चंगुल में होंगे। जबकि, पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने घटना को खट्टर सरकार की नाकामी करार दिया है।


एक सीनियर अधिकारी के अनुसार, आरोपियों को पकड़ने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है और उम्मीद है कि बाकी आरोपी जल्द ही गिरफ्त में आ जाएंगे। अब तक पुलिस ने आरोपियों की तलाश में हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली और कई अन्य राज्यों में छापेमार कार्रवाई की है।

तीन आरोपियों की हो चुकी है पहचान
सीएम खट्टर ने कहा था पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीन आरोपियों की पहचान कर ली है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आरोपी और पीड़ित एक-दूसरे को जानते थे। जबकि सबसे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि एक आरोपी सेना का जवान है। आरोपियों की तलाश जारी है। हमने एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। उन्हें जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।'

 

हरियाणा पुलिस ने नूह की एसपी नाजनीन भसीन के नेतृत्व में विशेष जांच दल का गठन किया है। पुलिस ने शनिवार को आरोपियों के नाम और फोटोग्राफ जारी किए थे। आरोपियों की पहचान सेना के जवान पंकज और मनीष तथा नीशू के रूप में की गई। नीशू पुलिस की गिरफ्त में आ चुका है। साथ ही प्रशासन ने अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सूचना देने वाले को एक लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा भी की है।

 

पीड़िता की मां ने मांगी फांसी
पीड़िता की मां ने न्याय की गुहार लगाते हुए जिला प्रशासन और सरकार से आरोपियों के लिए फांसी की मांग की है। साथ ही जिला प्रशासन द्वारा दिए गए 2 लाख रुपए का चेक भी पीड़िता की मां ने वापस करने का फैसला लिया है। उनका कहना है कि उन्हें इस चेक की जरूरत नहीं है। क्या यह कीमत उनकी बेटी की इज्जत के लिए रखी जा रही है? हमें बस न्याय चाहिए। हमने कानून के लंबे हाथों के बारे में सुना है, लेकिन पुलिस क्या कर रही है? आरोपियों को अभी तक पकड़ा नहीं गया है।

खबरें और भी हैं...