दैनिक भास्कर हिंदी: जवानों के बाद अब नागरिकों को हनीट्रैप का शिकार बना रहा ISI, रोहतक से युवक गिरफ्तार

April 17th, 2018

डिजिटल डेस्क, चंडीगढ़। पाकिस्तानी खूफिया एजेंसी आईएसआई का नापाक चेहरा एक बार फिर सामने आया है। पहले सेना के भारतीय जवानों को निशाना बनाया और अब नागरिकों को ISI निशाना बना रहा है। इस ISI ने एक भारतीय को हनीट्रैप का शिकार बनाया और उससे भारतीय सेना की खुफिया सूचनाएं ले रहा था। हनीट्रेप का शिकार हुए युवक को रोहतक से गिरफ्तार कर लिया गया है। बताया जा रहा कि आईएसआई उससे भारतीय सेना के शिविरों के बारे में जानकारी लेता था।

 

फेसबुक पर हुई थी दोस्ती

एसपी पंकज नैन ने कहा कि राज्य और केंद्रीय खुफिया एजेंसियों की सूचना के आधार पर रोहतक के मॉडल टाउन से आरोपी युवक गौरव कुमार को गिरफ्तार किया गया। उस पर आरोप है कि भर्ती परीक्षा के लिए वह जिन सैन्य शिविरों में जाता था वहां की सूचनाएं आईएसआई को भेजता था। गौरव पर सरकारी गोपनीयता कानून और आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। गौरव सोनीपत जिले के गनौर शहर का निवासी है। उसकी दोस्ती दो महिलाओं से फेसबुक पर एक साल पहले हुई थी।

 

 

सेना में भर्ती के लिए युवक कर रहा था प्रयास

ये महिलाएं पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के लिए काम करती थीं। उन्होंने कहा, ‘‘प्रारंभिक जांच से पता चला है कि गौरव लंबे समय से सेना में भर्ती होने का प्रयास कर रहा था और सेना की तरफ से आयोजित होने वाली परीक्षाओं की तैयारी करता था।’’ 

 

कैप्टन अरुण मारवाह भी बन चुके शिकार


बता दें कि इससे पहले भी कई मामले आ चुके हैं जब सेना के जवानों, अधिकारियों को हनीट्रैप का शिकार बनाकर पाकिस्तान ने देश से जुड़ खुफिया जानकारियां लेने की कोशिश की। इस काम के लिए पाकिस्तानी एजेंसी से जुड़ी कुछ महिलाएं देश के लोगों से सोशल मीडिया या अन्य माध्यमों के जरिए संपर्क बनाती है, और फिर सेक्सुअल बातें कर उनसे देश के राज जानने की कोशिश करती है। हाल ही में वायुसेना के कैप्टन अरुण मारवाह को हनीट्रैप में फंसाया गया था।

 

इंटेलीजेंस एजेंसियों ने जारी किया था अलर्ट 

बता दें कि इंटेलीजेंस एजेंसियों की ओर से सरकार को अलर्ट किया गया था और कहा गया था कि चीन-पाकिस्तान सुरक्षा से जुड़ी जानकारियां हासिल करने के लिए सेना के ऑफिसर्स को फंसाने का जाल फैला रहे हैं। सरकार को अलर्ट में कहा गया था कि हनीट्रैप के जरिए सेना के अफसरों को फंसाने के लिए चीनी और पाकिस्तानी लड़कियों का प्रयोग किया जा रहा है। पिछले कुछ समय से देश में हनीट्रैप के कई मामले सामने आए हैं और इसमें लगातार इजाफा हो रहा है।