comScore

लापता विमान AN-32 की खोज जारी, सर्च ऑपरेशन में लगे C 130J, सुखोई-30 और MI 17


हाईलाइट

  • भारतीय वायुसेना का AN-32 ट्रासपोर्ट एयरक्राफ्ट सोमवार से लापता
  • विमान को खोज के लिए वायुसेना और थलसेना का सर्च ऑपरेशन जारी
  • विमान में सवार थे 8 क्रू मेंबर और 5 पैसेंजर

डिजिटल डेस्क,ईटानगर। भारतीय वायुसेना का विमान AN-32 सोमवार से गायब है। जिसके खोज के लिए वायुसेना और थल सेना का बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन जारी है। विमान ने सोमवार दोपहर 12.24 मिनट पर उड़ान भरी थी, जिसमें 13 लोग सवार थे। ये एयरक्राफ्ट अरुणाचल प्रदेश के मेचुका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड के लिए 8 क्रू मेंबर और 5 पैसेंजर को लेकर रवाना हुआ था। दोपहर 1 बजे के बाद से यह एयरक्राफ्ट ग्राउंड एजेंसीज के संपर्क में नहीं है। वायुसेना ने लापता विमान का पता लगाने के लिए एक सुखोई-30MKI, C-130 स्पेशल ऑपरेशंस एयरक्राफ्ट को सर्च मिशन पर तैनात किया है। मेचुका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम सियांग जिले में मेचुका घाटी में स्थित है। 

यह मैकमोहन लाइन के पास भारत-चीन सीमा के सबसे नज़दीकी लैंडिंग ग्राउंड है। एंटोनोव AN-32 एक ट्रैक्टिकल ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट है जिसका उपयोग भारतीय वायुसेना करती है और 1984 से सेवा में है। AN-32 कई वर्षों से भारतीय वायुसेना के लिए भरोसेमंद वर्कहॉर्स रहा है और इसे बड़े पैमाने पर उपयोग करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर यात्रियों के सुरक्षित होने की कामना की है। उन्होंने लिखा है कि, लापता वायुसेना के AN-32 विमान के संबंध में भारतीय वायुसेना के उपप्रमुख एयर मार्शल राकेश भदौरिया से बातचीत की। उन्होंने मुझे वायुसेना के लापता विमान को लेकर उठाए गए प्रयासों की जानकारी दी है। मैं इसमें सवार सभी यात्रियों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं। 

इससे पहले भी 22 जुलाई 2016 जुलाई में वायुसेना का एन32 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट बंगाल की खाड़ी के ऊपर से लापता हो गया। इस विमान में 29 लोग सवार थे। विमान ने चेन्नई एयरबेस से उड़ान भरी थी और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के लिए रवाना हुआ था। चेन्नई एयरबेस से उड़ान भरने के एक घंटे बाद विमान से रडार का संपर्क टूट गया। संपर्क टूटने के बाद विमान का पता लगाने के लिए भारतीय वायुसेना ने सर्च ऑपरेशन चलाया था, लेकिन विमान का पता नहीं चल पाया। 
 

कमेंट करें
XHLt2