दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र: शिवसेना की 50-50 फॉर्मूले की मांग गलत, 2 दिन मांगे थे हमने 6 माह दे दिए- शाह

November 14th, 2019

हाईलाइट

  • किसी पार्टी के पास संख्या है तो वह राज्यपाल से संपर्क कर सकती है
  • हमें शिवसेना की शर्तें मंजूर नहीं हैं, उनकी 50-50 फॉर्मूले की मांग गलत है
  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने पर विपक्ष केवल राजनीति कर रहा है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर पार्टियों में चल रही सियासी जद्दोजहद के बीच पहली बार अमित शाह का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए 18 दिन दिए गए थे। इससे पहले किसी भी राज्य में इतना समय नहीं दिया गया। सरकार बनाने को लेकर न तो हमने दावा किया, न शिवसेना और न ही कांग्रेस और एनसीपी ने। राज्यपाल ने विधानसभा कार्यकाल समाप्त होने के बाद भी पार्टियों को आमंत्रित किया। बावजूद इसके कोई भी बहुमत सिद्ध नहीं कर सका।

उन्होंने कहा कि अगर आज भी किसी पार्टी के पास संख्या है तो वह राज्यपाल से संपर्क कर सकती है। हमें शिवसेना की शर्तें मंजूर नहीं हैं, उनकी 50-50 फॉर्मूले की मांग गलत है और राज्यपाल ने निर्णय संवैधानिक व सही है। महाराष्ट्र में सरकार बनाने पर विपक्ष केवल राजनीति कर रहा है। वहीं शिवसैनिक दो दिन मांग रहे ​थे, हमने उन्हें 6 माह दे दिए।

चुनावों से पहले पीएम और मैंने कई बार सार्वजनिक रूप से कहा कि अगर हमारा गठबंधन जीतता है तो देवेंद्र फडणवीस सीएम होंगे, तब किसी ने आपत्ति नहीं की थी। अब वे नई मांगें लेकर आए हैं जो हमें स्वीकार्य नहीं हैं। भाजपा अध्यक्ष शाह ने कहा कि आज भी अगर किसी के पास संख्या है तो वे राज्यपाल से संपर्क कर सकते हैं। राज्यपाल ने किसी को भी मौका देने से इनकार नहीं किया है। कपिल सिब्बल जैसे विद्वान वकील बच्चों जैसे तर्क दे रहे हैं​ कि हमें सरकार बनाने का मौका नहीं दिया।

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने के फैसले पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि इस मुददे पर कहा कि विपक्ष केवल राजनीति कर रहा है और एक संवैधानिक पद को इस तरह से राजनीति में घसीटना मैं नहीं मानता कि लोकतंत्र के लिए स्वस्थ परंपरा है।


 

खबरें और भी हैं...