दैनिक भास्कर हिंदी: दिवाली से पहले ही दिल्ली प्रदूषित, 9 गुना तक बढ़ा पॉल्यूशन

October 20th, 2017

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने दिवाली के पहले ही पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी लेकिन उसके बाद भी दिल्ली की हवा में जहर घुलता ही जा रहा है। दिवाली के एक दिन पहले आए प्रदूषण के आकड़ों को देखकर सबके रोंगटे खड़े हो रहे हैं। चूकिं सुप्रीम कोर्ट का आदेश पटाखों की बिक्री पर रोक लगाता है उसे जलाने पर नहीं। बीते दिन का प्रदूषण स्तर इतना अधिक है तो आज वो कहां जाकर ठहरेगा ये एक गंभीर सवाल है। दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमेटी ने प्रदूषण स्तर पर नजर रखने के लिए 10 स्टेशनों पर एयर क्वालिटी मापने की व्यवस्था की है।

यहां लगाए गए है एयर क्वालिटी चेकर 

दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमेटी यानी डीपीसीसी जिन 10 केंद्रों के आंकड़े जुटा रही है, उनमें दिल्ली के श्रीनिवासपुरी, वजीरपुर, करणी सिंह स्टेडियम, ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम, जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, ITI जहांगीरपुरी, आनंद विहार बस अड्डा, मंदिर मार्ग, पंजाबी बाग और आरके पुरम शामिल हैं। 
रखी जा रही है प्रदूषण स्तर पर नजर

सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगाने का फैसला एक प्रयोग के तौर पर लिया है कि इससे प्रदुषण स्तर में कुछ कमी आएगी कि नहीं, लेकिन पिछले कुछ दिनों हो रहे लगातार निरीक्षण में लगातार जो आकड़ें सामने आ रहे हैं वो अभी से इतने खतरनाक हैं कि आज दिवाली के दिन क्या हालात होंगे ये सोच कर प्रशासन को पसीना आ रहा है। इस बार के प्रदूषण स्तर ने अभी तक के सार रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।

ये भी पढ़ें- SC का आदेश : जारी रहेगी दिल्ली-NCR में पटाखों की बिक्री पर रोक

अगर हम इन आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं, तो चौंकाने वाला पहलू यह है कि दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से 9 गुना तक ज्यादा हो गया है।

Image result for delhi air pollution

सबसे जहरीला हुआ वजीरपुर

एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग के जरिए दिल्ली के हर हिस्से के वायु प्रदूषण के डाटा को जुटाया जा रहा है। दिवाली से सिर्फ एक दिन पहले यानी रुप चतुर्दशी या कहें छोटी दिवाली के दिन वायु प्रदूषण के आंकड़ों पर गौर किया जाए, तो सबसे ज्यादा प्रदूषित इलाका उत्तरी दिल्ली का वजीरपुर है। जहां वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से 9 गुना तक ज्यादा पहुंच गया है, वायु प्रदूषण के मानक PM 10 के हिसाब से मापे जाते हैं। और 100 पीएच की हवा को विश्व स्वास्थय संगठन द्वारा सांस लेने योग्य माना गया है लेकिन वजीर पुर में इसका स्तक 9 गुना ज्यादा पहुंच चुका है।

Image result for delhi air pollution

आनंद विहार बस अड्डे का इलाके का दूसरा नंबर

 पिछले कुछ दिनों से हो रही इस मॉनिटरिंग में अब तक आनंद विहार के आंकडे सबसे खराब हैं। वहां कुछ दिन पहले ही हवा सांस लेने लायक नहीं बची है, और जैसे जैसे दिवाली पास आ रही है ये हवा खतरनाक होती जा रही है। यहां भी वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से लगभग नौ गुना ज्यादा है यानी वजीरपुर से थोड़ा ही कम, इसके बाद फरीदाबाद बॉर्डर के कर्णी सिंह शूटिंग रेंज का नंबर आता है। आनंद विहार के बाद यह दिल्ली का तीसरा सबसे ज्यादा प्रदूषित इलाका है।

Related image

पॉश इलाकों में भी हालत बदतर

दिल्ली के बीचो-बीच यानी पॉश इलाकों में शुमार पंजाबी बाग, आरके पुरम और यहां तक कि इंडिया गेट का इलाका भी वायु प्रदूषण में किसी मामले में पीछे नहीं है।  इन इलाकों में भी वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से लगभग सात गुना तक ज्यादा है।

PM 2.5 का स्तर भी खतरनाक स्तर पर

अब बात पीएम 2.5 की....दिवाली से एक दिन पहले इस सबसे खतरनाक माने जाने वाले पार्टिकुलेट मैटर (PM 2.5) भी लगभग नौ गुना तक ज्यादा रिकॉर्ड दर्ज किए गए हैं। यह PM 10 की तुलना में छोटा होता है, लेकिन ज्यादा खतरनाक होता है। ये खतरनाक इस लिए भी है क्योकिं इसके नाम की तरह ही इसके पार्टिकल्स यानि कण बहुत छोटे होते हैं जो सांस के साथ न सिर्फ फेफंडो पहुंचते हैं बल्कि वो धमनियों के जरिए दिमाग तक पहुंच उसे भी नुकसान पहुंचाते हैं।

PM 2.5 के मामले में इंडिया गेट का इलाका दूसरे नंबर पर

PM 2.5 के मामले में वजीरपुर के बाद दूसरे नंबर पर इंडिया गेट के आस पास का इलाका यानि ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम है। जहां लोगों की आवाजाही काफी ज्यादा रहती है। 

PM 2.5 के मामले में दक्षिणी दिल्ली का सबसे पॉश इलाका माने जाने वाला आरकेपुरम तीसरे नंबर पर है। 

पश्चिमी दिल्ली का पंजाबी बाग इलाका और उत्तरी दिल्ली का जहांगीरपुरी इलाका भी पीएम 2.5 के मामले में पीछे नहीं हैं।
क्या होगा परिणाम?

साल 2016 में पीएच 10 का कई गुना बढ़ गया था जो काफी खतरनाक था और ‘स्मोग’ की स्थिति बन गयी थी। जिसमें लोगों की हेल्थ पर काफी गलत नकसान हुआ है। और इस बार स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए सरकार भरसक प्रयास कर रही है, सुप्रीम कोर्ट तक ने सख्त आदेश दे दिया है लेकिन अभी जो आकड़ें हैं वो हैरान कर रहे हैं अब सवाल ये है आज क्या होगा।