दैनिक भास्कर हिंदी: Farmer Protest: केंद्र सरकार और किसानों के बीच आज होने वाली बैठक टली, 20 जनवरी को होगी वार्ता

January 19th, 2021

हाईलाइट

  • दोनों पक्षों के बीच अब तक 9 बार बैठक हो चुकी हैं
  • किसान कानून वापसी की मांग पर अड़े हैं
  • किसान नेताओं में पहली बार फूट सामने आई

डिजिटल डेस्क, ग्वालियर। किसान यूनियनों और केंद्र सरकार के बीच 19 जनवरी को होने वाली बैठक अब 20 जनवरी को होगी। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने रात 10 बजे इसकी जानकारी दी। यह बैठक दोपहर 2 बजे विज्ञान भवन नई दिल्ली में आयोजित की जाएगी।

बैठक किसी अपरिहार्य कारणों से स्थगित करनी पड़ी है। बता दें कि दोनों पक्षों के बीच अब तक हुईं 9 बैठकें बेनतीजा रही हैं। किसान कानून वापसी की मांग पर अड़े हैं। सरकार का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने कानूनों के अमल पर फिलहाल रोक लगा दी है, इसलिए अब कानून वापसी के अलावा बताएं कि क्या चाहते हैं? वहीं इससे पहले किसान संगठनों ने भी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर मार्च निकालने का ऐलान किया है। ट्रैक्टर मार्च को लेकर दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में याचिका दाखिल की है। इस पर भी 20 जनवरी को सुनवाई होगी।

हालांकि आज की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिल्ली में प्रवेश का सवाल कानून-व्यवस्था की विषय है और दिल्ली में कौन आएगा या नहीं, इसे दिल्ली पुलिस तय करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रशासन को क्या करना है और क्या नहीं करना है, यह कोर्ट नहीं तय करेगा। वहीं कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा, “इस मामले को डील करने के लिए आपके पास पूरी अथॉरिटी है, लेकिन हम यह नहीं कह रहे कि आपको क्या करना चाहिए। 20 जनवरी को इस मामले की सुनवाई करेंगे।”

किसान नेताओं में पहली बार फूट सामने आई
संयुक्त मोर्चा की बैठक में रविवार को हरियाणा भाकियू के अध्यक्ष गुरनाम चंढूनी पर आंदोलन को राजनीति का अड्डा बनाने, कांग्रेस समेत राज नेताओं को बुलाने और दिल्ली में सक्रिय हरियाणा के एक कांग्रेस नेता से आंदोलन के नाम पर करीब 10 करोड़ रुपए लेने के गंभीर आरोप लगे। आरोप ये भी है कि वह कांग्रेस से टिकट के बदले हरियाणा सरकार को गिराने की डील भी कर रहे हैं। संयुक्त मोर्चे ने एक कमेटी बनाई है, जो 20 जनवरी को रिपोर्ट देगी। उधर, चंढू़नी ने सभी आरोपों को खारिज किया है।

 

खबरें और भी हैं...