दैनिक भास्कर हिंदी: माल्याजी को चोर कहना ठीक नहीं, 4 दशक तक समय पर कर्ज चुकाया: गडकरी

December 14th, 2018

हाईलाइट

  • गडकरी ने ये बात महाराष्ट्र सरकार की इकाई सिकॉम से लिए कर्ज पर कही
  • व्यवसाय में उतार चढ़ाव आता रहता है, हमें उनका समर्थन करना चाहिए: गडकरी
  • शराब कारोबारी माल्या पर 9 हजार करोड़ की बैंक धोखाधड़ी का आरोप है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कर्ज लेकर देश से भागने वाले विजय माल्या को चोर कहने पर आपत्ति जताई है। एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने कहा, 'एक बार कर्ज न चुका पाने वाले विजय माल्याजी को चोर कहना ठीक नहीं है, उन्होंने चार दशक तक ठीक समय पर कर्ज चुकाया है। वो इस समय संकट से जूझ रहे हैं।

गडकरी ने ये भी स्पष्ट किया कि माल्या के साथ उनका कोई भी कारोबारी लेनदेन नहीं है। मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री का बयान ऐसे समय आया है, जब केंद्र सरकार और भारत की सुरक्षा एजेंसी माल्या को लंदन से भारत लाने की कोशिशों में लगी हैं। ब्रिटने की एक अदालत ने हाल ही में माल्य को भारत के हवाले करने का निर्देश दिया है। बता दें कि शराब कारोबारी विजय माल्या पर 9 हजार करोड़ रुपए की बैंक धोखाधड़ी का आरोप है।


गडकरी ने माल्या के बारे में ये बातें एक मीडिया घराने के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि माल्या नियमित 40 साल से पैंसों का भुगतान करने के साथ ही समय पर ब्याज भी भर रहा था, उसकी हालत विमानन (एविएशन) के व्यवसाय में उतरने के बाद खराब हुई। एक बार वो डिफाल्टर हो गया तो उसे फ्रॉड कहना ठीक नहीं है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जिस कर्ज की वो बात कर रहे हैं, उसे माल्या ने महाराष्ट्र सरकार की इकाई सिकॉम से लिया था। 40 साल पहले लिए गए इस कर्ज को माल्या ने समय पर चुका दिया था। 

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि कारोबार में उतार-चढ़ाव आना आम बात है, ये किसी के साथ भी हो सकता है। ऐसी स्थिति में फंसे व्यक्ति का समर्थन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर काम में जोखिम होता है। बीमा सेक्टर से लेकर बैंकिग तक उतार चढ़ाव आते रहते हैं। उन्होंने कहा कि यदि माल्याजी या नीरव मोदी ने धोखाधड़ी की है तो उन्हें जेल भेजना चाहिए, लेकिन परेशान व्यक्ति को धोखेबाज कहने से हमारी अर्थव्यवस्था प्रगति नहीं कर पाएगी।

खबरें और भी हैं...