दैनिक भास्कर हिंदी: उन्नाव रेप : आरोपी BJP MLA का भाई गिरफ्तार, पीड़िता बोली- फांसी पर लटका दो

April 12th, 2018

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को उन्नाव रेप केस में कार्रवाई करते हुए आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई को गिरफ्तार किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में क्राइम ब्रांच ने बीजेपी विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर के अलावा तीन और लोगों को भी गिरफ्तार किया है। हालांकि अतुल की गिरफ्तारी के बाद पीड़ित युवती ने बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की गिरफ्तारी की मांग की है। बता दें कि इस मामले में सोमवार को आरोपी बीजेपी विधायक को क्लीन चिट मिल चुकी है।

क्यों हुई बीजेपी विधायक के भाई की गिरफ्तारी?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार को लखनऊ क्राइम ब्रांच ने बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह को गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही तीन और लोगों को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया है। इन सभी को पीड़िता के पिता से मार-पीट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। दरअसल, पीड़िता के पिता की पुलिस कस्टडी के दौरान मौत हो गई थी। वहीं बताया ये भी जा रहा है कि इस मामले में कड़ी कार्रवाई करते हुए दो पुलिस अधिकारी और 4 कॉन्स्टेबल को भी सस्पेंड कर दिया गया है।

 



पीड़िता बोली- मुझे इंसाफ चाहिए

बीजेपी विधायक के भाई की गिरफ्तारी के बाद पीड़िता ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 'मैं नहीं जानती कि उसका भाई गिरफ्तार हुआ है या नहीं? कुलदीप सिंह तो अभी तक गिरफ्तार नहीं हुआ है। मैंने मांग की है उसे फांसी पर चढ़ाया जाए। उन्होंने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी। मुझे इंसाफ चाहिए। उन्होंने मेरे पिता को भी मार डाला।'

FIR में कुलदीप सिंह का नाम नहीं

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुलिस FIR में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का नाम दर्ज नहीं किया गया है। जिस कारण इस मामले में गृह विभाग की तरफ से बीजेपी विधायक को क्लीन चिट भी दे दी गई। गृह विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि मजिस्ट्रेट के सामने धारा-164 के तहत दर्ज बयान में पीड़िता ने बीजेपी विधायक पर दुष्कर्म का आरोप नहीं लगाया गया है। इसके बाद पीड़िता की बहन ने मांग की है कि FIR में कुलदीप सिंह और अरुण सिंह का नाम भी शामिल किया जाए और दोनों को जल्द गिरफ्तार किया जाए।

बीजेपी विधायक बोले- वो निम्न स्तर के लोग हैं

बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर सोमवार को सीएम योगी से मिलने पहुंचे थे। यहां पर मीडिया ने जब उनसे सवाल किया तो उन्होंने कहा कि 'वो निम्न स्तर के लोग हैं। अपराधियों की साजिश है।' इससे पहले कुलदीप सिंह ने अपने बचाव में सफाई देते हुए कहा था कि 'मेरे खिलाफ कोई भी आरोप नहीं है और मैं किसी भी जांच के लिए तैयार हूं। कड़ी कार्रवाई उनके खिलाफ होनी चाहिए, जो इस मामले में असली दोषी हैं।'

 

Image result for yogi adityanath unnao rape case



दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा : योगी

पीड़िता के पिता की मौत के बाद यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में कड़ा एक्शन लेने की बात कही है। सीएम योगी ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा है कि दोषियों को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। सोमवार को सीएम हाउस में मीडिया से बात करते हुए सीएम योगी ने बताया 'ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। एडीजी लखनऊ को इस मामले की जांच करने के आदेश दिए गए हैं। जो भी दोषी होंगे, उन्हें सजा मिलेगी। फिर चाहे वो कोई भी हो।'

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, रविवार को एक महिला ने मीडिया को बताया कि 'मेरे साथ बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने अपने साथियों के साथ मिलकर एक साल पहले रेप किया था। जिसके बाद मैंने हर जगह दरवाजा खटखटाया, लेकिन किसी ने मेरी नहीं सुनी।' पीड़िता ने बताया था कि वो सीएम योगी आदित्यनाथ के पास भी गई थी, लेकिन वहां से भी कोई मदद नहीं मिली। इतना ही नहीं जब उन्होंने आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवानी चाही तो उन्हें धमकाया गया। जिसके बाद पीड़िता के परिवार ने रविवार को ही सीएम हाउस के सामने धरने पर बैठ गए और जान देने की कोशिश की। जिसके बाद पुलिस ने पीड़िता के पिता को हिरासत में ले लिया। इसी दौरान पुलिस कस्टडी में पीड़िता के पिता की मौत हो गई, जिसके बाद ये मामला और ज्यादा बढ़ गया। 

 



कौन है कुलदीप सिंह सेंगर?

कुलदीप सिंह सेंगर को राजनीति में दल बदलने में माहिर माना जाता है। बीजेपी में आने से पहले कुलदीप सिंह समाजवादी पार्टी के नेता हुआ करते थे, लेकिन विधानसभा चुनावों से ठीक पहलि उन्होंने सपा का साथ छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया। कुलदीप सिंह सेंगर ने अपनी राजनीति की शुरुआत उत्तर प्रदेश यूथ कांग्रेस से की थी। उन्होंने 2002 में बहुजन समाज पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ा और पहली बार विधायक बने। इसके बाद 2012 में वो समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए और उन्नाव की भगवंतनगर सीट से चुनाव लड़ा और जीता। इसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले कुलदीप सिंह बीजेपी में शामिल हो गए। फिलहाल कुलदीप सिंह उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से विधायक हैं।