दैनिक भास्कर हिंदी: राजस्थान में वसुंधरा ही सीएम उम्मीदवार, नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों पर विराम

July 22nd, 2018

हाईलाइट

  • वसुंधरा के नेतृत्व में लड़ा जाएगा विधानसभा चुनाव।
  • बीजेपी की ओर सीएम पद के लिए वसुंंधरा राजे सिंधिया होगी चेहरा।
  • अमित शाह बीजेपी कार्यसमिति की बैठक में किया ऐलान।

डिजिटल डेस्क, जयपुर। राजस्थान में मुख्यमंत्री पद के लिए बीजेपी का चेहरा कौन होगा ? इस सवाल के जबाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव वसुंंधरा राजे के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। शाह ने दावा किया है कि वसुंंधरा राजे प्रचंड बहुमत के साथ एक बार फिर मुख्यमंत्री बनेंगी। शाह ने विधानसभा और लोकसभा चुनावों को लेकर कहा है कि राजस्थान के साथ-साथ छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में भी पार्टी एक बार फिर सरकार बनाएगी और 2019 में नरेन्द्र मोदी ही देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। 

 

 

Image result for वसुंधरा राजे

 

शनिवार को एक दिवसीय संगठनात्मक प्रवास पर जयपुर पहुंचे शाह ने तोतूका भवन बीजेपी की कार्यसमिति की बैठक को भी संबोधित किया। समापन सत्र के दौरान अमित शाह ने यह तय कर दिया है कि वसुंधरा राजे राजस्थान विधानसभा चुनाव में बीजेपी की ओर से मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार होंगी। 2003, 2008 और 2013 के विधानसभा चुनाव में भी पार्टी ने राजे के चेहरे पर ही भरोसा जताया था। दरअसल, हाल में पार्टी के वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी ने राजे के खिलाफ बगावत करते हुए बीजेपी छोड़ दी थी। साथ ही उन्होंने नई पार्टी का ऐलान किया था। ऐसे में वसुंधरा को लेकर बीजेपी में संशय की स्थिति बन गई थी। 

 

 

 


बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने ऑफिशल ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया, 'जयपुर में बीजेपी की कार्यसमिति बैठक को संबोधित किया। तुष्टीकरण पर केंद्रित कांग्रेस कभी भी विकास की राजनीति करनेवाली बीजेपी का विकल्प नहीं हो सकती है। दिन-रात एक कर, बूथ स्तर तक संगठन को और मजबूत करके बीजेपी को अजय बनाना हम सभी कार्यकर्ताओं का एक मात्र लक्ष्य होना चाहिए।

 

Related image

 

ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी वसुंधरा राजे के अलावा किसी दूसरे चेहरे पर दांव खेल सकती है, लेकिन अमित शाह ने सारे कयासों पर ब्रेक लगा दिया है। शाह ने पार्टी कार्यकर्ता, सांसद और विधायकों को स्पष्ट कर दिया है कि वसुंधरा के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा जाएगा। राजस्थान में 200 विधानसभा सीटें हैं, बीजेपी ने 2003, 2008 और 2013 के विधानसभा चुनावों में वसुंधरा राजे को चेहरे पर भरोसा जताया था। 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को दो तिहाई से ज्यादा बहुमत मिला था। 163 सीट वसुंधरा के नेतृत्व में मिली थीं जबकि कांग्रेस सिर्फ 21 सीट पर सिमट गई थी। हालांकि, इसके बाद भी विवाद खत्म हो जाएंगे कहना मुश्किल है। कुछ दिन पहले ही मोदी सरकार में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री गजेंन्द्र सिंह शेखावत ने वसुंधरा पर निशाना साधते हुए कहा था कि राजस्थान में जीत सिर्फ मोदी की वजह से मिली थी। केंद्रीय मंत्री शेखावत और सीएम वसुंधरा राजे के विवाद अध्यक्ष पद को लेकर हुआ था।