दैनिक भास्कर हिंदी: कोविड राहत वस्तुओं के इंपोर्ट पर IGST हटाने की मांग, वित्त मंत्री ने दिया ममता को ये जवाब

May 9th, 2021

हाईलाइट

  • वित्त मंत्री ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की पीएम को लिखी चिट्ठी का जवाब दिया
  • ममता ने कोविड राहत वस्तुओं के इंपोर्ट पर IGST हटाने की मांग की थी
  • वित्त मंत्री ने कहा, आपकी सूची में जो वस्तुएं हैं वो पहले ही इसमें शामिल हैं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की उस चिट्ठी का जवाब दिया है जो उन्होंने पीएम मोदी को लिखी थी। वित्त मंत्री ने कहा, तीन मई को जारी एक आदेश में कोविड-19 राहत सामग्रियों की एक सूची जारी की गई थी। इन सामग्रियों के इंपोर्ट पर आईजीएसटी से राहत दी जा चुकी है। इन्हें इससे पहले ही सीमा शुल्क या स्वास्थ्य कर से भी राहत दी जा चुकी है। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी देख सकती हैं कि आपकी सूची में जो वस्तुएं हैं वो पहले ही इसमें शामिल हैं।

 

 

बता दें कि ममता बनर्जी ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। इस पत्र में उन्होंने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अहम मेडिकल उपकरण और दवाइयों पर सभी तरह के टैक्स और कस्टम ड्यूटी को माफ करने का अनुरोध किया था। ममता बनर्जी ने स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचा मजबूत करने और कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए उपकरण, दवाओं तथा ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने का भी आग्रह किया था। 

ममता बनर्जी ने लिखा था, 'बड़ी संख्या में संगठन, लोग और परोपकारी एजेंसियां ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, सिलेंडर, क्रायोजेनिक स्टोरेज टैंक, कंटेनर और कोरोना संबंधित दवाएं डोनेट करने के लिए आगे आ रही हैं। इन संगठनों के डोनेशन से मांग और आपूर्ति के भारी अंतर को पूरा करने के राज्य सरकार के प्रयासों को सप्लीमेंट मिलेगा। ममता बनर्जी ने कहा, हालांकि कई डोनर्स और एजेंसियों ने राज्य सरकार से इन पर सीमा शुल्क, SGST, CGST, IGST से छूट देने पर विचार करने के लिए संपर्क किया है।

ममता ने लिखा, 'इनकी कीमतें केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में आती है, तो मैं अपील करती हूं कि इन सामानों को GST या कस्टम ड्यूटी और अन्य ऐसे ही टैक्सों से छूट दी जाए, ताकि कोविड मैनेजमेंट में जीवनरक्षक दवाओं और उपकरणों की आपूर्ति बढ़ाने में मदद मिल सके।' बता दें कि बीते 5 दिनों में ममता बनर्जी की यह पीएम मोदी को दूसरी चिट्ठी है।

खबरें और भी हैं...