comScore

फेक न्यूज रोकने की कोशिशों पर सरकार को झटका, वॉट्सएप ने ठुकराई यह मांग

August 24th, 2018 00:57 IST
फेक न्यूज रोकने की कोशिशों पर सरकार को झटका, वॉट्सएप ने ठुकराई यह मांग

हाईलाइट

  • वॉट्सऐप ने अपने प्लेटफार्म पर संदेश के मूल स्रोत का पता लगाने के लिए सॉफ्टवेयर विकसित करने से इनकार कर दिया है।
  • आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने हाल ही में वॉट्सऐप के सीईओ से मुलाकात कर सॉफ्टवेयर डेवलप करने की मांग की थी।
  • वॉट्सएप ने दिया एंड टू एंड इनक्रिप्शन प्रभावित होने का तर्क।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सोशल मीडिया का उपयोग कर फेक न्यूज के जरिए फैलाई जा रही अफवाहों पर रोक लगाने के लिए आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद से हाल ही में वॉट्सऐप के सीईओ ने मुलाकात की थी। सरकार ने वॉट्सऐप से ऐसा समाधान विकसित करने को कहा था जिससे फर्जी या झूठी सूचनाओं के स्रोत का पता लगाया जा सके। लेकिन वॉट्सऐप ने अपने प्लेटफार्म पर संदेश के मूल स्रोत का पता लगाने के लिए सॉफ्टवेयर विकसित करने से इनकार कर दिया है।

वॉट्सऐप के प्रवक्ता ने कहा कि लोग इस ऐप के जरिए सभी प्रकार की संवेदनशील सूचनाओं का भी आदान प्रदान करते है। ऐसे में अगर संदेश के मूल स्रोत का पता लगाने वाला सॉफ्टवेयर विकसित किया जाता है तो फिर इससे एंड टू एंड इनक्रिप्शन प्रभावित होगा और इसके दुरुपयोग की संभावना बढ़ जाएगी। प्रवक्ता ने कहा, हमारा ध्यान भारत में दूसरों के साथ मिलकर काम करने और लोगों को गलत सूचना के बारे में शिक्षित करने पर है। इसके जरिए हम लोगों को सुरक्षित रखना चाहते हैं।

बता दें कि हाल ही में भारत में मॉब लिंचिंग जैसी कई सारी घटनाएं सामने आई है। ये सभी घटनाएं वॉट्सएप जैसे प्लेटफॉर्म की मदद से फैलाई गई फेक न्यूज की वजह से हुई है। इसी को देखते हुए वॉट्सऐप के प्रमुख क्रिस डेनियल्स से आईटी मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद ने मुलाकात की थी। उन्होंने साफ तौर पर कहा था कि अगर वॉट्सएप को भारत में काम करना है तो इसके लिए स्थानीय कंपनी बनानी होगी। इस ऐप पर किसी फर्जी संदेश के स्रोत का पता लगाने का तकनीकी समाधान खोजना होगा।

इससे पहले भी रविशंकर प्रसाद ने वॉट्सऐप को फेक न्यूज पर रोक लगाने के लिए प्रभावी कदम उठाने को कहा था। जिसके बाद वॉट्सऐप ने सभी प्रमुख अखबारों में विज्ञापन देकर इनसे बचने का तरीका बताया था। साथ ही वॉट्सऐप ने अपने फीचर्स में भी कई बड़े बदलाव किए थे। इसमें से एक बड़ा बदलाव ये था कि यूजर को इस बात का पता चल जाता है कि उसके पास आया मैसेज फॉरवर्ड किया गया मेसेज है या क्रिएट किया गया। इसके साथ ही मैसेज ब्रोडकस्टिंग फीचर में भी वॉट्सएप ने बदलाव किया था। 

कमेंट करें
JMXdg
कमेंट पढ़े
Aman August 25th, 2018 02:09 IST

nice post, thanks for sharing. http://exclusivenewsreport.com/whatsapp-ने-ठुकराई-भारत-सरकार-की-य