comScore

गरीबों के लिए  सतना से भेजा गया एक ट्रक घटिया गेहूं, अनूपपुर SWC के अफसरों ने वापस किया

गरीबों के लिए  सतना से भेजा गया एक ट्रक घटिया गेहूं, अनूपपुर SWC के अफसरों ने वापस किया

डिजिटल डेस्क, सतना। सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत शासन द्वारा गरीबों के भोजन के लिए एक रुपए किलो में वितरण किए जाने वाले गेहूं की आड़ में नान सतना और एसडब्ल्यूसी की एक बड़ी शरारत का अनूपपुर के आला अधिकारियों द्वारा खुलासा किया गया है। दरअसल मध्यप्रदेश वेयर हाउसिंग एवं लाजि. कार्पोरेशन एसडब्ल्यूसी ने सतना से 30 अपै्रल को भेजे गए एक ट्रक गेहूं अमानक होने के कारण वापस कर दिया है। एसडब्ल्यूसी अनूपपुर के जिला प्रबंधक संजय वानखेड़े द्वारा उक्त गेहूं की गुणवत्ता को लेकर अपनी आपत्तियों के बारे में नान अनूपपुर के डीएम को भी पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने पत्र क्रमांक (मप्र वेलाका/19-20/27) में डीएम नान को बताया है कि सम्बंधित ट्रक में सतना (उचेहरा संतोषी वेयर हाउस) से भेजे गए गेहूं की 3-4 छल्लियों में स्कंध कीटग्रस्त घुनयुक्त तथा कचरे की अधिकता है। जिसे न तो वेयर हाउस में भंडारित करवाया जा सकता और न ही पीडीएस में वितरित करवाया जा सकता है। 

उचेहरा के संतोषी वेयर हाउस से भेजी गई खेप
आधिकारिक सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार एसडल्ब्यूसी के उचेहरा स्थित संतोषी वेयर हाउस से विगत एक सप्ताह में करीब 2150 क्विंटल गेहूं की खेप (एलआरटी) लांगरूट ट्रांसपोर्टिंग के तहत ट्रकों से भेजी गई है। इन्हीं सूत्रों की मानें तो वेयर हाउस में भंडारित गेहूं के सुरक्षा की जिम्मेदारी एसडब्ल्यूसी एवं नान के आला अधिकारी की संयुक्त रूप से होती है। मगर जैसा घटिया गेहूं भेजे जाने का जिक्र अनूपपुर के एसडब्ल्यूसी के जिला प्रबंधक संजय वानखेड़े द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को लिखे गए उक्त पत्र में किया है, उससे भंडारण शुल्क और अन्य सुरक्षा प्रबंधों के नाम पर हर महीने लाखों रुपए खर्च करके नान सतना और एसडब्ल्यूसी की साख पर एक बार फिर गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं।

इनका कहना है
नान सतना द्वारा एसडब्ल्यूसी के उचेहरा स्थित संतोषी वेयर हाउस से भेजे गए एक ट्रक गेहूं कीटग्रस्त अत्यधिक घुना और कचरायुक्त होने के कारण वापस कर दिया गया है। 
संजय वानखेड़े, जिला प्रबंधक एसडब्ल्यूसी, अनूपपुर 

यह सही है कि संतोषी वेयर हाउस उचेहरा से पीडीएस के तहत पिछले दिनों 7 ट्रक गेहूं भेजा गया था, लेकिन गुणवत्ता ठीक न होने के कारण वहां से गेहूं वापस किए जाने के बारे में हमें अभी तक जानकारी नहीं है।
अनिल द्विवेदी, प्रभारी एसडब्ल्यूसी, उचेहरा

कमेंट करें
SJvTF