comScore
Dainik Bhaskar Hindi

रेयान स्कूल मर्डर केस : 3 दिन की रिमांड पर दरिंदा कंडक्टर, जानिए वारदात की पूरी कहानी

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 09th, 2017 22:04 IST

1.6k
0
0

डिजिटल डेस्क,गुरूग्राम। रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे की की हत्या के मामले में पुलिस ने स्कूल के बस का कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी अशोक ने दूसरी क्लास में पढ़ने वाले प्रद्युम्न की स्कूल के बाथरूम में नृशंस हत्या कर दी थी। पुलिस की पूछताछ में कंडक्टर अशोक ने कबूल किया कि उसने बच्चे के साथ यौन शोषण की कोशिश की, लेकिन बच्चे के शोर मचाने पर उसका गला रेत दिया। 

यह भी पढ़ें : मासूम प्रद्युम्न की अपनी मां को लिखी भावुक चिट्ठी

दिल दहला देने वाली इस घटना के बाद से हर कोई सिहर गया है। वारदात शुक्रवार सुबह करीब 8 बजे की है। 7 साल के प्रद्युम्न को स्कूल के कुछ स्टूडेंट्स ने खून से लथपथ टॉयलेट से घिसटती हुई हालत में बाहर आते देखा। उन्होंने चिल्लाकर माली को इसके बारे में बताया। स्कूल प्रबंधन के अनुसार प्रद्युम्न उस समय जिंदा था। वो उसे अस्पताल लेकर गए, जहां उसकी मौत हो गई। 

यह भी पढ़ें : रेयान स्कूल : प्रिंसिपल सस्पेंड, सरकार रद्द कर सकती है मान्यता

कंडक्टर ने पार की दरिंदगी की हद
बच्चे की गर्दन और शरीर के अन्य हिस्सों पर चाकू के निशान भी मिले थे। पोस्टमार्टम करने वाले डॉ. दीपक माथुर ने बताया कि प्रद्युम्न को बेहद बेरहमी के साथ मारा गया है। बच्चे के गले पर दो बार कट लगाया गया है। गले के बीच से कान तक 12 सेमी. का कट है। कट इतना गहरा है कि पीछे रीड की हड्डी तक गया हुआ है और सांस की नली के साथ आहार नली भी कट गई है। 

यह भी पढ़ें : भारत के स्कूलों में पढ़ने वाला हर तीसरा स्टूडेंट 'अनसेफ': रिपोर्ट

30 सीसीटीवी फुटेज खंगालने पर मिला आरोपी का सुराग
पुलिस को मौके से खून लगा चाकू बरामद हुआ। बच्चे के गले पर धारदार हथियार का घाव था। जांच के लिए पुलिस ने स्कूल में लगे सीसीटीवी के फुटेज खंगाले। पुलिस ने बस ड्राइवरों, कंडक्टरों और माली सहित दस लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। कुछ घंटों की जांच के बाद पुलिस ने अशोक गिरफ्तार कर लिया। 

डीसीपी सिमरदीप सिंह के मुताबिक पूछताछ में पता चला कि अशोक टॉयलेट में गलत वारदात के इरादे से ही दाखिल हुआ था। वो टॉयलेट में गलत काम कर रहा था और अचानक प्रद्युम्न वहां पहुंच गया। आरोपी ने प्रद्युम्न के साथ यौन शोषण करने की कोशिश की। प्रद्युम्न के शोर मचाने पर अशोक ने गला रेत कर उसे मार डाला। अशोक ने इस बात का भी खुलासा किया  वो पहले भी बच्चे का यौन शोषण करने की कोशिश कर चुका है। 

दक्षिण गुरुग्राम के डीसीपी ने बताया, फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम जांच करने पहुंची और घटनास्थल से खून के नमूने, उंगलियों के निशान ले लिए हैं।' प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर एक एक्सपोर्ट कंपनी में क्वालिटी मैनेजर हैं। वरुण के अनुसार शुक्रवार सुबह 7.55 बजे उन्होंने प्रद्युम्न और बेटी विधि को स्कूल छोड़ा। इसके बाद जैसे ही वे घर लौटे स्कूल से फोन आया कि कि बेटे को ब्लीडिंग हो रही है, बादशाहपुर स्थित एक निजी अस्पताल लेकर जा रहे है। इसके बाद दोबारा फोन आया कि बेटे को लेकर आर्टिमस अस्पताल, गुड़गांव गए है। जब पिता अस्पताल पहुंचे तो बेटे की मौत हो चुकी थी।

बच्चे की मां के सुलगते सवाल
प्रद्युम्न की मां ज्योति ठाकुर ने घटना के बाद रेयान स्कूल में बच्चों की सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि 'स्कूल मेरे बच्चे को बुनियादी सुरक्षा भी मुहैया नहीं करवा सका, पेरेंट्स किस भरोसे पर अपने बच्चों को स्कूल भेजेंगे ?' ज्योति ने ये भी कहा कि उनका बेटा कभी उस कंडक्टर की बस में नहीं गया, वो खुद उसे स्कूल ले जाते थे। 

रेयान स्कूल में पहले भी हो चुका है ऐसा
साल 2016 में भी रेयान स्कूल, वसंत कुंज में ऐसा ही मामला सामने आया था। 6 साल का बच्चा देवांश वाटर टैंक में गिरा हुआ मिला था। मौत से कुछ देर पहले ही देवांश प्ले ग्राउंड में खेल रहा था। इस मामले में पुलिस ने मामला दर्ज किया था, जिसके बाद प्रिंसिपल और 4 स्टाफ मेंबर को हिरासत में लिया गया था।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर