comScore
Dainik Bhaskar Hindi

'जाको राखे साइंया-मार सके न कोई' 9 महीने बाद सुरक्षित घर लौटा मासूम, देखें Video

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 19th, 2017 16:24 IST

894
0
0

डिजिटल डेस्क, बीजिंग। बच्चे का खो जाना किसी के सिर पर दुखों का पहाड़ टूटने जैसा होता है। माता-पिता बच्चों से बेइंतहा प्यार करते हैं, उनकी हर ख्वाहिश और जरूरत का उनसे ज्यादा ध्यान रखते हैं। बच्चे ही तो मां-बाप की जीने का सहारा होते हैं। ऐसे में अचानक किसी का बच्चा ही कहीं खो जाए तो उस मां-बाप पर क्या गुजरती है उस दर्द को शब्दों में बयां कर पाना असंभव है। ऐसा ही कुछ हुआ चीन के Qingxin शहर में जहां बड़ी बहन की देखरेख में खेल रहे चेंग जियाफू को उनके ही घर से अगवा कर लिया गया था।

दर-दर भटका परिवार

बच्चे की तलाश शहर भर में की गयी। खूब ढूंढा गया, लेकिन उसका कहीं कोई सुराग नहीं मिला। पुलिस ने बच्चे को ढूंढने की तमाम कोशिशें की लेकिन नहीं मिलने पर कुछ महीने बाद सर्चिंग बंद कर दी। थक हार कर परिवार के लोगों ने भी उसे ढूंढना बंद कर दिया। वो परिवार नहीं जानता था कि घर से किडनैप हुआ बच्चा उन्हें 9 महीने बाद इस हालत में मिलेगा।

अचानक सामने आया बच्चा

रोजाना की तरह ही चेंग जियाफू के पिता अपने काम से बाहर गए थे और शॉपिंग मॉल के सामने से गुजर रहे थे कि तभी उनकी नजर तीन आदमियों के साथ जा रहे एक 6 साल के बच्चे पर पड़ी, एक झलक में उसने उसे पहचान लिया। वो बच्चा कोई और नहीं बल्कि उनका 9 महीने पहले अगवा हुआ बेटा चेंग जियाफू ही था। बच्चे के पिता चेन झोंग्होंग ने बिना एक सेकेंड की देरी करते हुए उसे भागकर उन लोगों से छीन लिया। Qingxin स्थानीय मीडिया के अनुसार उसके बाद पुलिस को सूचित किया गया। जिसके बाद तीनों अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है। उनके पूरे नाम की पहचान नहीं हो पायी है लेकिन उनके उपनाम को सार्वजनिक किया गया है। जो हैं चैन, ली और क्यू हैं इन्हें अपहरण के जुर्म में अब जेल भेजा जा चुका है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर