comScore

 टेरर फंडिग के मामले में 5 गिरफ्तार, सतना पहुंचेगी भोपाल एटीएस 

 टेरर फंडिग के मामले में 5 गिरफ्तार, सतना पहुंचेगी भोपाल एटीएस 

डिजिटल डेस्क, सतना। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर काम कर रहे आतंकियों के लिए टेरर फडिंग करने के एक बड़े मामले में यहां की क्राइम ब्रांच ने अलग-अलग ठिकानों पर दबिश देकर 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अक्षीधक रियाज इकबाल ने आतंकियों के 5 फंड मैनेजर की गिरफ्तारी की तो पुष्टि की है,लेकिन एहतियाती तौर पर पकड़ में आए आरोपियों के नाम बताने से इंकार कर दिया है। एसपी ने माना कि यहां जीरो पर कायमी करने के बाद सभी आरोपियों को भोपाल एटीएस ( एंटी टेरेरिज्म स्क्वाड ) के सुपुर्द कर दिया जाएगा। एटीएस की एक टीम 22 अगस्त को यहां पहुंच रही है। 

आरोपियों में हत्या का आरोपी भी 

इसी बीच सूत्रों ने बताया कि एसपी की क्राइम ब्रांच के हत्थे चढ़े पाकिस्तान पोषित देशी धन प्रबंधकों में कोटर थाना इलाके के सोहास निवासी बलराम सिंह, भागवेन्द्र सिंह ( कोटर ), सुनील सिंह, शुभम तिवारी एवं एक अन्य शामिल है। उल्लेखनीय है, गिरफ्तार आरोपियों में से एक बलराम सिंह को इससे पहले इसी मामले में भोपाल एटीएस ने 8 फरवरी 2017 को यहां कोलगवां थाना क्षेत्र की संग्राम कालोनी से गिरफ्तार किया था। जबकि भागवेन्द्र सिंह को इंदौर एसटीएस ने पकड़ा था। इन्हीं सूत्रों ने बताया कि एक अन्य आरोपी शुभम तिवारी की पुलिस को नागौद के बहुचर्चित सुधीर अग्रवाल हत्याकांड के मामले में तलाश थी। बताया गया है कि आरोपी सुनील सिंह वर्ष 2014 से  देश विरोधी गतिविधि में सक्रिय था,मगर बेहद शातिर किस्म के इस आरोपी को एटीएस बलराम,रज्जन और भागवेन्द्र की गिरफ्तारी के बाद भी नहीं पकड़ पाई थी। बताया गया है कि सुनील सिंह अपनी बहन के ही घर पर किराए से रहता था। एक अन्य आरोपी फिलहाल अज्ञात है। 

मिले 17 पाकिस्तानी नंबर 

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि गिरफ्तार किए गए 5 आरोपियों के पास से बड़ी तादाद में स्मार्ट मोबाइल फोन और लेपटॉप भी बरामद किए गए हैं। जिसमें 17 ऐसे पाकिस्तानी नंबर मिले हैं, जिनके माध्यम से आतंकियों के फंड मैनेजर वीडियो कॉल,मैसेंजर कॉल और वाटसएप पर चैटिंग किया करते थे। ऑन लाइन लॉटरी फ्रॉड और ऐसे ही माध्यमों से ठगी की रकम को पाकिस्तान के माध्यम से आतंकियों तक पहुंचाने के लिए नए-नए एकाउंट खुलावाना और उनके एटीएम हथिया कर धन प्रबंधन करने का काम कमीशन के आधार पर किया जाता था। 

छतरपुर और इलाहाबाद भी भेजी गई टीम 

सूत्रों ने बताया कि यहां इन 5 गिरफ्तारियों के अलावा सतना पुलिस की 2 अलग-अलग टीम छतरपुर और इलाहाबाद भी भेजी गई हैं। माना जा रहा है कि इस गिरोह के तार इन दोनों शहरों से भी जुड़े हुए हैं। पुलिस को इन दोनों जगहों से भी बड़ी कामयाबी की उम्मीद है। इसके अलावा इस गैंग के बिहार,पश्चिम बंगाल, झारखंड और छत्तीसगढ़ कनेक्शन की भी आशंका है। 

इनका कहना है

टेरर फंडिग के मामले में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इस संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। सभी आरोपी एटीएस के हवाले कर दिए जाएंगे। 
रियाज इकबाल, एसपी 
 

कमेंट करें
zqHAQ