comScore

फेसबुक पर सतना कलेक्टर की फेक आईडी बनाकर ठगी! 

फेसबुक पर सतना कलेक्टर की फेक आईडी बनाकर ठगी! 

डिजिटल डेस्क, सतना। फेसबुक पर कलेक्टर डॉ.सतेन्द्र सिंह की फेक आईडी बना कर उनके एक मित्र से 20 हजार की ठगी का मामला सामने आया है। पुलिस की साइबर सेल ने मामले की जांच शुरु कर दी है। इसी बीच यहां के लीड बैंक ने पंजाब नेशनल बैंक की उस ब्रांच को खोज निकाला है, जिस खाते में ठगी की रकम जमा कराई गई थी। ये बैंक एकांउट झारखंड स्थित सिंहभूमि (जमशेदपुर) निवासी पुष्पाकर आर्या के नाम पर है। खाते में महज 142 रुपए शेष हैं। इस मामले में सिविल लाइन थाने में आईटी एक्ट के अलावा आईपीसी की धारा 420 के तहत अपराध दर्ज किया गया है।  

जमशेदपुर भेजी गई पुलिस पार्टी 

एसपी रियाज इकबाल ने बताया कि इस मामले में आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक पार्टी बुधवार की रात को ही झारखंड के जमशेदपुर के लिए रवाना कर दी गई है। उन्होंने बताया कि फेसबुक पर अभी भी एक्टिव एकाउंट को डिएक्टीवेट कराने के लिए फेसबुक के हेड क्वार्टर को भी मेल किया गया है।

ऐसे हुआ खुलासा 

बुधवार को सुबह 6 बजे के करीब कलेक्टर डॉ.सिंह के पास उनके ग्वालियर के एक अधिवक्ता मित्र जीतेन्द्र कुशवाहा का फोन आया कि उनके खाते में ट्रांसफर की गई 20 हजार रुपए की राशि कन्फर्म हो गई है या नहीं? अगर, जरुरत हो तो वो और पैसा ट्रांसफर कर दें। एकाउंट और एमाउंट की बात सुनकर कलेक्टर हैरत में रह गए। पल भर के लिए उनकी समझ में कुछ नहीं आया। उनके मित्र ने जब फोन पर ही सारी बात बताई तो ये तय हो गया कि कोई जालसाज फेसबुक पर उनकी फेक आईडी बनाकर ठगी कर रहा है। कलेक्टर डॉ.सिंह ने फौरन अपनी फेस बुक पर इस आशय का मैसेज पोस्ट कर मित्रों से आग्रह किया कि कोई भी ठग के झांसे में नहीं आए। कलेक्टर के नाम पर ठगी की खबर मिलते ही पुलिस भी सक्रिय हो गई। पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने एडीशनल एसपी गौतम सोलंकी को जांच सौंपी और साइबर सेल को सक्रिय कर दिया गया। उधर लीड बैंक  के मैनेजर पीसी वर्मा और इलाहाबाद की उमरी ब्रांच के मैनेजर योगेन्द्र सिंह को पीएनबी बैंक के उस खातेदार की तलाश का जिम्मा सौंपा गया, जिस खाते पर ठगी की 20 हजार रुपए की राशि जमा कराई गई थी। पड़ताल में ये तथ्य सामने आया कि झारखंड के जमशेदपुर शहर के सिंहभूमि निवासी पुष्पाकर आर्या पिता स्व.मोहन आर्या के नाम पर पीएनबी बैंक में संचालित खाता नंबर-02250001003949 में ठगी की रकम जमा कराई गई थी। लेकिन खाते में सिर्फ 142 रुपए का ही बैलेंस मिला। इसी प्रकार पुष्पाकर के नाम पर इंडियन बैंक में पाए गए एक अन्य खाते ( नंबर-6551717131) में जीरो बैलेंस था। यहां के एससी ने आरोपी की गिरफ्तारी के लिए जमशेदपुर के एसएसपी से मदद का आग्रह किया है। फिलहाल ठगी की एक ही शिकायत सामने आई है।   
 

मैसेंजर में मजबूरी का रोना 

फेसबुक पर कलेक्टर की फेक आईडी बनाने के साथ ही ठग मैसेंजर पर सक्रिय हो गया। उसने मैसेंजर पर कलेक्टर डॉ. सिंह के छद्म मैसेज पोस्ट करने शुरु किए। मसलन- हैलो,फ्रेंड। बहुत मजबूरी है। मदद की जरुरत है। 20 हजार की मनी हेल्प चाहिए।  कलेक्टर के ग्वालियर निवासी मित्र इस ठग के झांसे में आ गए और उन्होंने ठग के बताए एकाउंट नंबर पर 02250001003949 पर 20 हजार रुपए की राशि ट्रांसफर कर दी। बुधवार को उन्होंने जब राशि प्राप्ति के लिए कन्फर्म किया तो पता चला कि वो तो ठगे जा चुके हैं। बैंक आफीसर की पड़ताल में आरोपी पुष्पाकर आर्या का पेन कार्ड नंबर बीवाईपीए 4756 के और आधार कार्ड नंबर-853667031077 ट्रेस हुआ है। आरोपी ठग ने जिस खाते में 20 हजार रुपए की राशि ट्रांसफर कराई थी उस खाते में सिर्फ 142 रुपए बचे हैं। बैंक अधिकारियों ने बताया कि इस खाते में ड्यूज इतने बकाया थे कि पूरी रकम बैंक के पक्ष में ही चली गई। दूसरा खाता भी जीरो बैलेंस पर है। 

कमेंट करें
gdUHE