comScore

जीआरपी ने पकड़ा ट्रेन में चोरी करने वाली महिलाओं का गिरोह

जीआरपी ने पकड़ा ट्रेन में चोरी करने वाली महिलाओं का गिरोह

डिजिटल डेस्क सतना। चलती ट्रेन में महिला यात्रियों के जेबर चुराने वाले महिलाओं के गिरोह को जीआरपी ने गिरफ्तार कर लिया। तीनों महिलाएं लंबे अर्से से ट्रेनों में यात्रा कर रहे यात्रियों के जेबर चुरातीं थीं। इनके कब्जे से सोने के जेबर भी बरामद हुए हैं। जीआरपी ने प्रकरण पंजीबद्ध कर महिलाओं को कोर्ट में पेश किया जहां से तीनों को जेल भेज दिया गया। जीआरपी के हाथ चढ़ीं महिलाओं में सविता उर्फ शालू पति ईश्वरदास 40 वर्ष, वविता उर्फ अनीता पति इंदल उर्फ अंशू 35 वर्ष और वंदना उर्फ अस्मिता पति शेखर उर्फ सावन 25 वर्ष तीनों निवासी अम्बेडकर चौक काम्टी नागपुर के नाम शामिल हैं। 
पुलिस को देखकर लगा दी दौड़
जीआरपी के मुताबिक दीपावली में सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर रेलवे स्टेशनों में सघन चेकिंग करने के निर्देश थे। इसी के चलते 29 अक्टूबर को शाम तकरीबन 5 बजे जीआरपी उचेहरा रेलवे स्टेशन में चेकिंग करने पहुंची। रेलवे स्टेशन में उक्त तीनों महिलाएं पहले से मौजूद थीं। महिलाओं की नजर जैसे ही पुलिस पर पड़ी तीनों ने दौड़ लगाकर भागने की कोशिश की। तब महिला कांस्टेबलों ने खदेड़कर महिलाओं को हिरासत में ले लिया। जीआरपी ने जब महिलाओं से पूछतांछ की, पहले तो इन्होंने जानकारी देने में आनाकानी की। जब जीआरपी ने सख्ती दिखाई तो महिलाओं ने ट्रेन में चोरी करने की घटनाओं के बारे में जानकारी दी। बताया गया है कि इससे पहले जीआरपी को मुखबिरों ने उक्त आशय की सूचना भी दी थी कि उचेहरा में तीन संदिग्ध महिलाएं बैठी हुई हैं। 
 तलाशी में मिले गहने
संदिग्ध महिलाओं को हिरासत में लेकर जीआरपी ने इनकी तलाशी भी ली। इस दौरान सविता उर्फ शालू के पास से सोने का एक मंगलसूत्र, वविता उर्फ अनीता के कब्जे से सोने की मनचली के साथ वंदना उर्फ अस्मिता के पास से सोने की नाक में पहनने वाली कील और एक सोने की अंगूठी बरामद की गई। तीनों महिलाओं ने उक्त जेबर चलती ट्रेन में महिलाओं से चुराना कबूल किया। जिस यात्री गाड़ी में अधिक भीड़ होती थी, महिलाएं उसी में सवार होकर भीड़ का फाउदा उठाकर जेबर चुरातीं थीं। इतना ही नहीं तीनों महिलाएं नाम बदलकर यात्रा करती थीं जिससे किसी को शक नहीं हो। 
 पहले भी पकड़ी जा चुकी हैं
जीआरपी के मुताबिक सविता उर्फ शालू, वविता उर्फ अनीता और वंदना उर्फ अस्मिता को तकरीबन दो माह पहले सिटी कोतवाली पुलिस ने चोरी के ही मामले में गिरफ्तार किया था। कोतवाली में मुकदमा कायम करने के बाद तीनों महिलाएं जेल भी गईं थी। बताया गया है कि चोरी के दूसरे मामले में कोलगवां पुलिस ने भी इन्हीं महिलाओं को पकड़ा था। तीनों महिलाएं लंबे अर्से से सतना जिले के इर्द-गिर्द रहकर चलती टे्रन में चोरी करतीं थीं
 

कमेंट करें
UkmHv