comScore

राहुल गांधी को J&K प्रशासन की हिदायत, कश्मीर आने की जरूरत नहीं


हाईलाइट

  • नेताओं से स्थिति समझने की अपील की
  • राहुल गांधी और 9 विपक्षी नेता जाने वाले हैं कश्मीर

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के शनिवार को जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर जाने की खबरों के बीच राज्य के प्रशानस का बयान आया है। प्रशासन ने ट्वीट किया है कि विपक्षी नेता सहयोग करें और कश्मीर न आएं। नेताओं के दौरे से असुविधा हो सकती है, प्रशासन ने कहा है कि नेता उन प्रतिबंधों का उल्लंघन करेंगे, जो राज्य के कई क्षेत्रों में अभी लागू है। नेताओं को स्थिति समझते हुए शांति व्यवस्था बनाने में मदद करनी चाहिए।

दरअसल, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर पहुंचने वाले हैं, उनके साथ विपक्षी दल के 9 नेता भी रहेंगे। राहुल गांधी जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर जा रहे हैं, उनके साथ जाने वाले नेता हालात का जायजा लेंगे और स्थानीय लोगों से भी मुलाकात करेंगे।

राहुल के साथ जाने वाले सभी नेता कश्मीर के नेताओं और स्थानीय लोगों से भी मुलाकात करेंगे। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राहुल गांधी को जम्मू-कश्मीर आने का न्यौता दिया था, इसके बाद राहुल शनिवार को श्रीनगर जाने वाले हैं।

इससे पहले राहुल गांधी ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक के कश्मीर बुलावे का जवाब दिया था, उन्होंने कहा था कि विपक्षी नेताओं के दल को जम्मू-कश्मीर जाने की इजाजत दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा था कि वहां के स्थानीय लोगों से नेताओं को मिलने दिया जाना चाहिए, राहुल ने राज्यपाल को संबोधित करते हुए कहा था कि विपक्षी नेता जम्मू-कश्मीर और लद्दाख आने का निमंत्रण स्वीकार करना चाहते हैं।  

दो बार वापस लौट चुके हैं गुलाम नबी
इससे पहले जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सांसद और कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधा था, उन्होंने कहा था कि कश्मीर के हालातों पर राहुल झूठ बोल रहे हैं। इससे पहले धारा 370 हटाए जाने के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद जम्मू-कश्मीर जा चुके हैं, लेकिन उन्हें एक बार श्रीनगर एयरपोर्ट तो दूसरी बार जम्मू एयरपोर्ट से दिल्ली लौटा दिया गया।

कमेंट करें
DmXY5