comScore

मध्य प्रदेश के इस किले में छिपा है पारस पत्थर, जो लोहे को बना देता है सोना


डिजिटल डेस्क, रायसेन। कहते हैं कि आज के समय में कुछ भी संभव हो सकता है, देश दुनिया में और हम अपने आस-पास कुछ न कुछ ऐसा देखते-सुनते रहते हैं, जिसे जानकर आश्चर्य होता है, लेकिन कई बार ये आश्चर्यजनिक बातें भी सही साबित हो जाती हैं। हम भी आपको एक ऐसी आश्चर्यजनिक बात बता रहे हैं, जिसके बारे में अब तक आपने सिर्फ कहानियों में ही पढ़ा और सुना होगा। हम बात कर रहे हैं पारस पत्थर की। जिसके बारे में कहा जाता है कि इसे छूते ही लोहा भी सोना बन जाता है। 

खबरों के अनुासर आज भी भोपाल के एक किले में पारस पत्थर मौजूद है। हालांकि लाख खुदाई करने के बाद भी अब तक इस पत्थर को कोई भी खोज नहीं सका। ये किला भोपाल से करीब 50 किलोमीटर दूर रायसेन में स्थित है जहां पारस पत्थर के होने के बारे में बताया जाता है।

इस किले का निर्माण 1200 ईस्वी में किया गया था। कहा जाता है कि ये पत्थर यहां के राजा के पास था। खबरों के मुताबिक माना जाता है कि इस पत्थर के लिए कई बार युद्ध हुए, लेकिन जब किले के राजा को लगा कि वे युद्ध हारने वाले हैं तो उन्होंने पारस के पत्थर को किले में ही मौजूद एक तलाब में फेक दिया। जिसे आज तक कोई भी खोज न सका। कई लोगों ने इसे ढूढ़ने की कोशीश कि लेकिन नकामयाब रहे, हालांकि पुरातत्व विभाग को भी अब तक ऐसा कोई भी सबूत नहीं मिला जिससे पता चल सके कि इस किले में आज भी पारस पत्थर मौजूद है। 


 

कमेंट करें
oN32y