comScore

श्रीलंका में आतंकी हमला, 8 धमाकों के बाद सोशल मीडिया बैन, अब तक 190 की मौत


हाईलाइट

  • श्रीलंका की राजधानी कोलंबो सहित कई जगह सीरियल ब्लास्ट।
  • तीन चर्च और तीन होटल के अंदर हुए बम धमाके।
  • 160 लोगों की मौत, 300 से ज्यादा घायल।

डिजिटल डेस्क, कोलंबो। श्रीलंका की राजधानी कोलंबो सहित करीब 8 जगहों पर रविवार को सीरियल ब्लास्ट हुए हैं। यहां तीन चर्च और तीन होटल के अंदर बम धमाके हुए हैं। इन 6 धमाकों के बाद दोपहर 2 बजे एक ओर धमाका हुआ है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक इन बम धमाकों में अब तक 190 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 400 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं। सभी घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं मृतकों की संख्या भी लगातार बढ़ती ही जा रही है। हमले के बाद पूरे देश में सोशल मीडिया पर बैन लगा दिया गया है। इस बीच हमले को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है। धमाके से 10 दिन पहले यानी 11 अप्रैल को  NTJ (नेशनल तौहीत जमात) की ओर से प्रमुख चर्चों और पब्लिक प्लेस को निशाना बनाने की बात कही गई थी।

इस संबंध में श्रीलंका के पुलिस प्रमुख पुजुथ जयसुंदर ने देश के प्रमुख चर्चों पर हमले को लेकर एक अलर्ट जारी किया था।अलर्ट में कहा गया था कि आत्मघाती हमलावरों ने प्रमुख चर्चों पर हमला करने की साजिश रची है। पुलिस प्रमुख ने ये अलर्ट शीर्ष अधिकारियों को भेजा था। अलर्ट में कहा गया कि एक विदेशी खुफिया एजेंसी ने रिपोर्ट दी है कि NTJ (नेशनल तौहीत जमात) आत्मघाती हमलों को अंजाम दे सकता है।संगठन प्रमुख चर्चों के साथ-साथ कोलंबो में भारतीय उच्चायोग को निशाना बना सकता है। बता दें कि  NTJ का नाम पुलिस प्रमुख ने अपने अलर्ट में लिया है वो एक वह कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन है। पिछले साल भी यह संगठन सुर्खियों में आया था जब वहां कुछ बौद्ध धर्मस्थलों पर हमला किया गया था। हमले के बाद श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने आपात बैठक बुलाई है। श्रीलंका में हुए धमाकों की चेतावनी वहां के पुलिस प्रमुख ने पहले ही दी थी। इस बात का खुलासा डॉक्युमेंट्स से हुआ है।

दोपहर 2 बजे हुआ एक और धमाका

ब्लास्ट के बाद श्रीलंका सरकार ने सोशल मीडिया और मैसेजिंग सर्विस पर पाबंदी लगा दी है। सरकार ने नाइट कर्फ्यू का भी ऐलान किया है।

जानकारी के मुताबिक ये बम धमाके ऐसे वक्त किए गए हैं जब दुनिया में ईस्टर संडे का त्यौहार मनाया जा रहा है। धमाके में 3 चर्च को निशाना बनाया गया है। श्रीलंका के समय के मुताबिक ये ब्लास्ट पौने 9 बजे हुए हैं। आपको बता दें कि ईस्टर संडे गुड फ्राइडे के तीन दिन बाद ईसा मसीह के फिर से जीवित हो जाने पर मनाया जाता है, जिसमें ईसाई लोग खुशी मनाने के लिए प्रभु भोज में भाग लेते हैं और एक-दूसरे के साथ खुशी मनाते हैं। श्रीलंका की कई रिपोर्टों के अनुसार, बट्टिकलोबा, नैगोंबो और कोलंबो के चर्चों में और होटल शांगरी ला और किंग्सबरी सहित होटलों में धमाका हुआ है।

कोलंबो के तीन बड़े होटल और तीन चर्च में धमाके हुए हैं। हालांकि इन धमाकों की अब तक किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। वहीं श्रीलंका में मौजूद हाई कमिश्नर ने ट्वीट किया है कि, वह स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। इसके साथ ही वहां मौजूद भारतीय नागरिकों के लिए उन्होंने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं। श्रीलंका में किसी भी तरह की मदद के लिए भारतीय +94777903082, +94112422788, +94112422789, +94777902082 या +94772234176 पर कॉल कर सकते हैं।

श्रीलंका ब्लास्ट पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का भी बयान आ गया है। उन्होंने बताया, वह लगातार कोलंबो में मौजूद भारतीय हाई कमिश्नर के संपर्क में हैं और स्थिति पर उनकी पूरी नजर है। वहीं श्रीलंका के इकोनॉमिक रिफॉर्म्स एंड पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन मिनिस्टर हर्षा डिसिल्वा ने बताया कि, प्रधानमंत्री बेंटोला से लौट रहे हैं। इमरजेंसी मीटिंग बुलाई गई है। बचाव कार्य तेजी से चल रहा है।उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने और घरों से बाहर न निकलने की अपील की है। 

राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने धमाकों पर शोक जताया है और लोगों से शांति की अपील की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताते हुए कहा, 'मैं इस घटना की कड़ी निंदा करता हूं। समाज में इस तरह की बर्बरता के लिए कोई जगह नहीं है। भारत के लोग दुख की इस घड़ी में पीड़ितों से साथ हैं। पीड़ित परिवारों के लिए मेरी शोक संवेदनाएं हमेशा उनके साथ है मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल व्यक्ति जल्द से जल्द ठीक हो जाएं।

कमेंट करें
0lnO9