comScore

Whatsapp: स्पाईवेयर बग हमले से बचने के लिए तुरंत अपडेट करें एप

Whatsapp: स्पाईवेयर बग हमले से बचने के लिए तुरंत अपडेट करें एप

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  दुनिया की सबसे बड़ी सोशल मीडिया कंपनी Facebook के स्‍वामित्‍व वाली Whatsapp ने अपने दुनियाभर के यूजर्स को अपना एप तुरंत अपग्रेड करने के लिए कहा है। दरअसल Whatsapp पर स्पाईवेयर बग  के हमले के कारण संभावित मालवेयर अटैक से बचने के लिए कंपनी ने यह बयान दिया है। कंपनी ने कहा है कि उसने अपने सिस्‍टम में एक ऐसी खामी का पता लगाया है जो यूजर्स के फोन में वॉइस कॉलिंग के जरिए स्‍पाईवेयर को इंस्‍टॉल करने की अनुमति देता है। यह स्‍पाईवेयर यूजर्स के फोन का डाटा चोरी कर सकता है। 

स्‍पाईवेयर की पहचान की
इस खामी का फायदा उठाते हुए हैकर्स ने लोगों के मोबाइल में स्पाईवेयर डाला। यह स्पाईवेयर एक सर्विलांस सॉफ्टवेयर था, जिसे ऐप के कॉल फीचर का उपयोग कर iOS और Android दोनों प्लेटफार्म पर चलने वाले स्मार्टफोन में डाला गया। कंपनी के अनुसार इस महीने की शुरुआत में उसने एक स्‍पाईवेयर की पहचान की थी और उसे तुरंत पकड़ भी लिया था। कंपनी ने कहा है कि इस हमले को नाकाम करने के लिए उसने अपने इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर में भी कई बदलाव किए हैं। 

ऐसे आता है स्पाईवेयर
इस स्पाईवेयर को हैकर किसी भी यूजर को कॉल करके उसके मोबाइल में डाल सकते हैं। अगर यूजर कॉल रिसीव नहीं भी करता है तो भी इसे उसके मोबाइल में इंस्टॉल किया जा सकता है। यानी, सिर्फ एक मिस कॉल से भी यूजर के मोबाइल में स्पाईवेयर डाला जा सकता है। मोबाइल में स्पाईवेयर डाले जाने के बाद फोन से इनकमिंग कॉल के लॉग भी डिलीट हो जाते हैं, जिससे लोगों को यह पता नहीं चलता है कि वे इससे प्रभावित हुए हैं या नहीं। 

प्राइवेट कंपनी ने कियाा हमला
हमलावर का नाम बताए बगैर Whatsapp ने कहा है कि हमारा मानना है कि एक एडवांस साइबर अटैक के जरिए कुछ निश्चित संख्या में निशाना बनाया गया है। यह हमला एक प्राइवेट कंपनी ने किया था, जो सरकारों के साथ स्‍पाईवेयर की आपूर्ति के लिए काम करती है, जो इस हमले के जरिए मोबाइल फोन ऑपरेटिंग सिस्‍टम पर नियंत्रण हासिल कर रही थी।  

ऑपरेटिंग सिस्‍टम को अप-टू-डेट रखें
व्‍हाट्सएप के प्रवक्‍ता ने अपने बयान में कहा है कि कंपनी अपने यूजर्स से एप को नवीनतम वर्जन के साथ अपग्रेड करने और अपने मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्‍टम को अप-टू-डेट रखने का आग्रह करती है। यह संभावित हमले को रोकने में मददगार होगा। प्रवक्‍ता ने कहा कि हम निरंतर इंडस्‍ट्री पार्टनर्स के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि अपने यूजर्स को और अधिक सुरक्षा उपलब्‍ध कराई जा सके।

इस ग्रुप द्वारा विकसित है स्‍पाईवेयर
रिपोर्ट्स के मुताबिक इस स्‍पाईवेयर को इजरायल की साइबर इंटेलीजेंस कंपनी NSO ग्रुप द्वारा विकसित किया गया है, जो कि इन अटैक से लिंक्ड है। इस कंपनी का फ्लैगशिप प्रॉडक्ट Pegasus है, जो कि मैलवेयर का एक पीस है। एक सिंगल क्लिक के जरिए यह हैकर्स को फोन में रखे गए सभी तरह के डेटा तक पहुंच बनाने की सहूलियत देता है। हालांकि कंपनी ने प्रभावित यूजर्स की संख्या नहीं बताई है।
 

कमेंट करें
3mtOx