comScore

इंद्र देव को मनाने की जुगत : गांववालों ने मेंढक-मेंढकी की रचाई शादी

इंद्र देव को मनाने की जुगत : गांववालों ने मेंढक-मेंढकी की रचाई शादी

डिजिटल डेस्क, भंडारा। मॉनसून का काफी वक्त गुजरने के बावजूद अच्छी बारिश का कुछ अता पता नहीं। ऐसे में कुछ लोगों को लगता है कि भगवान इंद्र शायद रूठ गए हैं, जिस कारण बरसात नहीं हो रही है। अच्छी बारिश की उम्मीद में अब इंद्र देव को मनाने की जुगत शुरु हो गई। इसी कड़ी में किसान और गांववालो ने मिलकर मेंढक - मेंढकी का ब्याह रचा डाला। तस्वीर में नजर आ रहे किसान के हाथों में एक पटिए पर मेंढक-मेंढकी दिखाई दे रहे हैं। उसके साथ घराती और बराती भी शामिल हैं। पीछ नजर आ रहे किसान भजन गाते हुए इस बारात में शामिल हुए हैं।       

मेंढक-मेंढकी का विवाह सम्पन्न

पूरे विधि विधान के साथ शादी की रस्में पूरी हुई, कुछ ही देर में किसान और ग्रामीणों ने मिलकर मेंढक-मेंढकी का विवाह सम्पन्न करा दिया। मेघ देवता से अच्छी बारिश की कामना की गई। सकोली के सेंदुरवाफा गांव में इस तरह से भगवान इंद्र को मनाने के लिए टोटका किया गया। यहां ग्रामीणों की मान्यता है कि जब बारिश नहीं होती, तो इंद्र देव को मनाना पड़ता है। इस परंपरा को निभाने के लिए किसान हर साल मेंढकों का ब्याह कराते हैं। रविवार को ग्रामीणों ने भजन करते हुए बारात निकाली। मेंढक-मेंढकी की शादी कराने के बाद धान और फसल को बचाने की प्रार्थना की गई। किसानो को उम्मीद है कि रूठे हुए इंद्र देव जल्द ही मान जाएंगे। अच्छी बारिश से फसल होगी, तो घर में खुशियां आएंगी।

कमेंट करें
Uo62k