दैनिक भास्कर हिंदी: Politics: प्रकाश जावड़ेकर का राहुल गांधी पर पलटवार, कहा - आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस उनकी निराशा का प्रदर्शन है

January 19th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर कल यानी बुधवार को केन्द्र सरकार और किसान संगठनों के बीच दसवें राउंड की बैठक होनी है। इससे पहले कांग्रेस के दिग्गज नेता राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस कर मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्हें पीएम मोदी पर तीखे हमले किए। राहुल ने कृषि कानून को किसान विरोधी बताते हुए कहा कि पीएम मोदी किसानों को बर्बाद कर रहे हैं। राहुल गांधी की प्रेस कांफ्रेंस के ठीक बाद बीजेपी ने पलटवार किया। केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी पर निशाना साधा। 

जावड़ेकर ने कहा - "मुझे आश्चर्य हुआ कि बीजेपी देश की सबसे प्रमुख पार्टी है उसके अध्यक्ष जेपी नड्डा जी ने सवाल क्या पूछे राहुल गांधी भाग गए। प्रश्नो का उत्तर नहीं आता तो कबूल करो असफलता, लेकिन उन्होने खेती पर सवाल पूछे, चीन पर सवाल पूछे एक का भी जवाब देने के बजाए अपनी असभ्यता का परिचय देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि नड्ड् कौन होते है सवाल पूछने वाले? अरे नड्डा भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष है।सबसे बडी पार्टी के अध्यक्ष है। देश में अनेक राज्यों में हमारी सरकार है उसके प्रमुख है। वो देश की जनता के सवाल आपसे पूछ रहे थे और आप जवाबों से भाग रहे थे।

आगे जावड़ेकर ने कहा - "मूल कांग्रेस का खेल क्या है? आज क्यों रखी गई प्रेस कॉन्फ्रेंस? कल 10वें राऊंड की चर्चा है, किसान और सरकार के बीच। कांग्रेस नहीं चाहती कि किसान के समस्या का समाधान हो, सरकार और किसान की वार्ता सफल हो और इसीलिए विरोध की नीति अपनाते है। 

प्रकाश जावड़ेकर का पलट वार यहां खत्म नहीं हुआ उन्होने उल्टा कहा -" राहुल गांधी मैं सीधे आपसे सवाल पूछता हूं, अगर किसान गरीब रहा तो किसके नीति के चलते गरीब रहा? पचास साल जो कांग्रेस ने विनाशकारी नीति चलाई उसके कारण किसान गरीब हुआ। उसके उपज का कभी मूल्य नहीं दिया। स्वामीनाथन कमीशन 2006 में अपनी रिपोर्ट सौपी, कॉस्ट प्लस 50% का फॉर्मूला दिया। कांग्रेस ने 2014 तक कभी नहीं दिया, उलटा हर बार जब राज्य सभा में मैने सवल पूछा तो जवाब आता था कि ये सिफारिश स्वीकार नहीं की गयी है। क्यों नहीं की? 

भारतीय जनता पार्टी के नेता ने कहा- "2009 में एक बार कांग्रेस ने 70,000 करोड़ के कर्ज़ माफी की घोषणा की थी चुनाव के लिए, असल में 53,000 करोड़ ही लगे। मोदी जी ने किसान सम्मान निधी में 1,19,000 करोड दे चुके है और कुल मिला कर 10 साल में 7,00,000 करोड़ रुपये देने वाले है। कहां 53,000 करोड कहां 7,00,000 करोड़? एम्पावरमेंट, किसान का।"

अंत में जावड़ेकर ने कहा- "कांग्रेस की आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस उनकी निराश का प्रदर्शन है। चीन पर जवाब क्यों नहीं देते? अरुणाचल की भूमि जो चीन के कब्जे़ में गई  किसने दी? एयर स्ट्राइक पर सवाल कौन पूछ रहा था? सवल तो बहुत है। नड्डा जी ने पूछा तो जवाव नहीं आपके पास और इसलिए आप भाग रहे है। लेकिन कांग्रेस का ये खेल नहीं चलेगा। हमारी चर्चा किसानों से जारी है और हमें विश्वास है सफल भी होगी ।" 

आपको बता दें कि राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस से राजनैतिक सियासत गर्मा गई है। फिलहाल पूरे देश को कल होने वाली किसान और सरकार की दसवी बैठक का इंतजार है।