• Dainik Bhaskar Hindi
  • Politics
  • Will Akhilesh make an entry again in the 2024 Lok Sabha elections? Announced to contest from this seat, said - what will I do by sitting vacant

उत्तर प्रदेश सियासत: 2024 लोकसभा चुनाव में फिर अखिलेश करेंगे एंट्री? इस सीट से चुनाव लड़ने का किया ऐलान, बोले- आखिर खाली बैठ कर क्या करूंगा

November 24th, 2022

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। 2024 में होने जा रही आम चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव की ओर से बिगुल बज चुका है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की ओर से एक बड़ा ऐलान किया गया है। गुरूवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान बातों ही बातों में अखिलेश की ओर से कहा गया कि अगले लोकसभा चुनाव में कन्नौज सीट से चुनाव लडूंगा। आखिर खाली बैठ कर क्या करूंगा? हमारा काम चुनाव लड़ना और मैं चुनाव लडूंगा। हालांकि इस सीट से मैं पहले भी चुनाव लड़ चुका हूं।

पहली बार शुरू की राजनीतिक करियर

दरअसल, कन्नौज सीट से सपा प्रमुख अखिलेश यादव अपनी रातनीतिक करियर की शुरूआत की थी। यादव ने सबसे पहले कन्नौज सीट से साल 2000 के उपचुनाव में खड़े हुए और जीत दर्ज कर पहली बार सांसद बने। इसके बाद अखिलेश ने कभी पीछे मुड कर नहीं देखा और 2004 व 2009 के लोकसभा चुनाव में भारी बढ़त के साथ जीत दर्ज की थी। हालांकि, साल 2012 में सांसद पद छोड़ यूपी की कमान संभाली और राज्य के मुख्यमंत्री बने। जिसके बाद विधान परिषद की सदस्यता ग्रहण की थी।

गौरतलब है कि सीट खाली होते ही अखिलेश यादव की पत्नी कन्नौज सीट से निर्विरोध सासंद चुनी गई और 2014 के लोकसभा चुनाव में डिंपल यादव ने इस सीट पर दोबारा जीत दर्ज की। वहीं 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में डिंपल यादव को कन्नौज सीट से हाथ धोना पड़ा और यह सीट सपा से बीजेपी की ओर चली गई। इस लोकसभा सीट पर वर्तमान में भाजपा के सुब्रत पाठक सांसद हैं। जिन्होंने डिंपल यादव को तकरीबन 12353 वोटों के अंतर से हराया था।

हालांकि, डिंपल मौजूदा वक्त में मैनपुरी में हो रहे उपचुनाव में सपा की उम्मीदवार हैं। पिछले दिनों सपा संरक्षक और यूपी के दो बार के मुख्यमंत्री रहे मुलायम सिंह का निधन हो गया था। मुलायम सिंह यादव मैनपुरी से सांसद रहे, जिनके न होने की वजह से ये सीट खाली है और डिंपल यादव इस सीट की प्रबल दावेदार मानी जा रही हैं। वहीं डिंपल के सामने भाजपा की ओर से रघुराज सिंह शाक्य है, जो शिवपाल सिंह यादव के करीबी माने जाते हैं। बहरहाल, खाली हुई मैनपुरी की सीट पर 5 दिसंबर को मतदान किए जाएंगे और वहीं इसके नतीजे 8 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे।

अब यूपी की राजनीति में सक्रिय

2019 लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव आजमगढ़ सीट से जीतकर दिल्ली पहुंचे थे। लेकिन 2022- यूपी विधानसभा चुनाव में मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ने का फैसला किया और उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले की करहल विधानसभा सीट अचानक से उस समय सुर्खियों में आ गई  थी। हालांकि, वीवीआईपी सीट होने के नाते ये तय माना जा रहा था कि अखिलेश की जीत तय है लेकिन राजनीति में कुछ कहना मुश्किल होता है, वैसे मैनपुरी सपा का गढ़ रहा है।

दिवंगत नेता मुलायम सिंह का कर्मभूमि माना जाता है। फिर तो अखिलेश को पिता के बनाए हुए सियासी पिच पर केवल बैटिंग करनी थी। हुआ कुछ ऐसा ही, करहल सीट से अखिलेश ने बीजेपी उम्मीदवार रहे केंद्रीय राज्यमंत्री एसपी सिंह बघेल को 67 हजार वोटों से हराया। अब अखिलेश दिल्ली की सियासत से हटकर यूपी की सियासत में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं।

 

 


     

खबरें और भी हैं...