comScore

मेस्सी और रोनाल्डो का सपना टूटा, वर्ल्डकप से बाहर हुए अर्जेंटीना और पुर्तगाल

July 01st, 2018 14:17 IST
मेस्सी और रोनाल्डो का सपना टूटा, वर्ल्डकप से बाहर हुए अर्जेंटीना और पुर्तगाल

डिजिटल डेस्क, मॉस्को। वर्ल्डकप में एक ही दिन दो महान फुटबालरों पुर्तगाल के क्रिस्टयानो रोनाल्डो और अर्जेंटीना के लियोनल मेस्सी की विदाई हो गई। फ्रांस ने अर्जेंटीना को 4-3 और उरूग्वे ने पुर्तगाल को 2-1 हराया। इसी के साथ दोनों महानायकों का वर्ल्डकप जीतने का सपना भी टूट गया। इन दोनों महानायकों को बाहर करने वाली दोनों टीम क्वार्टर फाइनल में एक दूसरे से भिड़ेंगी।
 

दूसरा मुकाबला उरुग्वे और पुर्तगाल के बीच हुआ जिसमें एडिनसन कवानी के दो बेहतरीन गोलों की मदद से उरुग्वे ने पुर्तगाल को 2-1 से हराकर फीफा वर्ल्डकप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया, जहां उसकी फ्रांस से 6 जुलाई को टक्कर होगी जिसने अन्य मुकाबले में अर्जेंटीना को 4-3 से हराया था। कवानी ने 7वें और 62वें मिनट में गोल किए जबकि पुर्तगाल का एकमात्र गोल पेपे ने 55वें मिनट में किया था। पुर्तगाल के स्टार रोनाल्डो इस मैच में अपना करिश्मा नहीं दिखा पाए। उनके पास पहले हाफ में डायरेक्ट फ्री किक से गोल करने का मौका आया, लेकिन वह ऐसा कमाल नहीं दिखा सके जैसा स्पेन के खिलाफ हैट्रिक के समय उन्होंने किया था।

हार के बाद नम हुईं आखें

पहला मुकाबला फ्रांस और अर्जेंटीना के बीच हुआ, जिसमें फ्रांस ने अर्जेंटीना को 4-3 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है। हार के साथ ही अर्जेंटीना का वर्ल्डकप 2018 का सफर यही खत्म हो गया है। शनिवार को खेले गए इस मुकाबले में पहली बार फ्रांस ने अर्जेंटीना को हराने में सफलता हासिल की है। हालांकि वर्ल्डकप की शुरूआत से पहले अर्जेंटीना और फ्रांस दोनों को खिताब का दावेदार माना जा रहा था। अर्जेंटीना की हार के बाद मेस्सी के साथ-साथ अन्य खिलाड़ियों की आंखें नम दिखाई दी, वहीं स्टेडियम में मौजूद दर्शक रोते-बिलखते नजर आए।



1998 वर्ल्डकप विजेता फ्रांस ने अपने जबर्दस्त अटैक के दम पर अर्जेंटीना को मात दी। इस जीत की बदौलत फ्रांस 21वें फीफा वर्ल्ड कप के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई है, जहां उसका मुकाबला उरुग्वे और पुर्तगाल के बीच होने वाले मुकाबले के विजेता से होगा। दो पूर्व चैंपियनों के बीच हुआ यह मैच पहले हॉफ से ही कॉफी रोमांचक रहा। मैच के ज्यादतर समय अर्जेंटीना की टीम फ्रांस पर हावी रही। हालांकि मैच में शुरुआती बढ़त फ्रांस को मिली। मैच के 11वें मिनट में फ्रांस के मम्बापे को अर्जेंटीना के पिछले मैच के हीरो रोजो ने बॉक्स में गिरा दिया। इसके बाद फ्रांस को पेनल्टी शूट का मौका मिला, जिसपर फ्रांस के ग्रीज़मान ने गोल दागते हुए टीम को 1-0 से आगे कर दिया। इस गोल के बाद अर्जेंटीना की टीम ने सावधानी से खेलते हुए बॉल को ज्यादातर समय तक अपने पास रखा। इसका फाएदा उन्हें मैच के 41वें मिनट में मिला जब डी मारिया ने फ्रांस के बॉक्स के बाहर से एक शानदार गोल दागा। हॉफटाइम तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थी। पहले हाफ में जहां फ्रांस के पास 38% बॉल पज़ेशन रहा, वहीं अर्जेंटीना के पास 57% बॉल पज़ेशन रहा।
 



दूसरे हाफ में भी अर्जेंटीना ने तेज शुरुआत की और 48वें मिनट में ही फ्रांस पर लीड ले ली। यहां मेस्सी मैजिक देखने को मिला, जब उनके एक शानदार शॉट से बॉल मरकाडो के पैर से डिफ्लेक्ट होकर गोलपोस्ट में चली गई। इस गोल की मदद से अर्जेंटीना ने मैच में 2-1 की बढ़त ले ली। हालांकि इस बढ़त को अर्जेंटीना ज्यादा देर तक बरकरार नहीं रख सकी। 57वें मिनट फ्रांस के पावार्ड ने एक लांग शॉट लिया और बॉल को अर्जेंटीना के गोलपोस्ट में पहुंचा दिया।
 



अभी अर्जेंटीना पिछले गोल के सदमे से उबरा भी नहीं था कि कीलियन मम्बापे ने 64वें और 68वें मिनट में दो शानदार गोल दागते हुए फ्रांस को 4-2 से आगे कर दिया। मम्बापे ने 64वें मिनट में अर्जेंटीना के गोलकीपर को छकाते हुए मैच में अपना पहला गोल दागा। इसके बाद 68वें मिनट में जीरूड के शानदार पास पर मम्बापे ने एक लो शॉट लिया और फ्रांस को दो गोलों की लीड दिला दी। यहां से मैच अर्जेंटीना के हाथ से लगभग खिसक चुका था। फ्रांस ने 90 मिनट तक मैच में अपनी यह दो गोलों की लीड बरकरार रखी, लेकिन मैच में मिले स्टॉपेज टाइम के तीसरे मिनट में मेस्सी के पास पर सर्जियो अगुएरो ने हैडर के जरिए अर्जेंटीना के लिए तीसरा गोल दागा और मुकाबले में टीम को वापस लाने की कोशिश की। स्टॉपेज टाइम के अंतिम पलों में अर्जेंटीना के लिए एक और मौका बना लेकिन यह गोल में तब्दील न हो सका और अर्जेंटीना वर्ल्डकप से बाहर हो गया।





मैच में अर्जेंटीना ने कुल 9 अटेम्प्ट्स किए, जिसमें 4 ऑन टारगेट थे। वहीं फ्रांस ने भी 9 अटेम्प्ट्स किए, जिसमें से 4 ऑन टारगेट थे। फ्रांस ने 21 फाउल किए वहीं अर्जेंटीना ने 15 फाउल किए। मैच में अर्जेंटीना के पास 59% बॉल पज़ेशन रहा, वहीं फ्रांस के पास 41% बॉल पज़ेशन रहा। मैच में कुल 8 यलो कार्ड दिए गए।

कमेंट करें
QAJDZ
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।