comScore

INDvsENG 1st Test : पहले दिन अश्विन ने झटके 4 विकेट, इंग्लैंड 285/9

August 02nd, 2018 10:47 IST

हाईलाइट

  • भारत और इंग्लैंड के बीच पहले दिन का खेल खत्म।
  • मेजबान टीम ने खेल समाप्त होने तक 9 विकेट पर 285 रन बनाए।
  • अश्विन ने चार विकेट लिए।

डिजिटल डेस्क, बर्मिंघम। भारत और इंग्लैंड के बीच एजबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन मेजबान टीम ने 9 विकेट पर 285 रन बनाए। फिलहाल क्रीज पर जेम्स एंडरसन बिना खाता खोले और सैम कुरन 22 रन बनाकर मौजूद हैं। मैच के पहले दिन भारत की ओर से अश्विन ने चार जबकि मोहम्मद शमी ने दो विकेट लिए। वहीं उमेश यादव और इशांत शर्मा को 1-1 विकेट हासिल हुआ।

अश्विन ने लिए चार विकेट
भारत को पहली सफलता आर अश्विन ने दिलाई। अश्विन ने 13 रन पर खेल रहे ओपनर कुक को बोल्ड कर इंग्लैंड को पहला झटका दिया। वहीं दूसरे सलामी बल्लेबाज कीटन जेनिंग्स ने अच्छी पारी खेली हालांकि वो सिर्फ आठ रन से अपने अर्धशतक से चूक गए। तेज गेंदबाज शमी ने उन्हें 42 रन पर आउट किया। इसके बाद शमी ने मलान (8 रन) का विकेट लेकर इंग्लैंड को तीसरा झटका दिया। इंग्लैंड को चौथा झटका रन आउट के रूप में लगा जब जो रूट कोहली के एक शानदार थ्रो पर रन आउट हो गए। बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे रूट 80 रन बनाकर आउट हुए। इसके ठीक बाद जानी बेयरस्टो (70 रन) रन बनाकर उमेश यादव की गेंद पर बोल्ड हो गए। वहीं विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर बिना खाता खोले ही अश्विन की गेंद पर lbw करार दिए गए। इसके बाद अश्विन ने बेन स्टोक्स को 21 रन और ब्रॉड (1 रन) को आउट कर मैच में अपना चौथा विकेट लिया।

                                        


इस मुकाबले के लिए चेतेश्वर पुजारा को अंतिम ग्यारह में शामिल नहीं किया गया। भारतीय टीम में इस मैच के लिए दो बदलाव किए गए। चेतेश्वर पुजारा की जगह लोकेश राहुल को मौका दिया गया। गेंदबाज़ी में अश्विन के हाथों में स्पिन का जिम्मा सौंपा गया है जबकि रविंद्र जडेजा को अंतिम एकादश में शामिल नहीं किया गया।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं :
भारत: मुरली विजय, शिखर धवन, केएल राहुल, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पंड्या, आर अश्विन, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा
इंग्लैंड: एलेस्टर कुक, कीटन जेनिंग्स, जो रूट (कैप्टन), डेविड मलान, जॉनी बेयर्स्टो (विकेटकीपर), बेन स्टोक्स, जोस बटलर, सैम कुरैन, आदिल राशिद, स्टुअर्ट ब्रॉड, जेम्स एंडरसन

कमेंट करें
e9Miu
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।