दैनिक भास्कर हिंदी: Asian Games : पीवी सिंधू ने फाइनल में पहुंचकर रचा इतिहास, साइना को मिला ब्रॉन्ज

August 27th, 2018

हाईलाइट

  • एशियन गेम्स 2018 के नौंवे दिन बैंडमिटन सेमीफाइनल में साइना नेहवाल को हार का सामना करना पड़ा।
  • साइना का मुकाबला वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी चीनी ताइपे ताइ जू यिंग से था।
  • अब भारत के पास कुल 37 मेडल हो गए हैं।

डिजिटल डेस्क, जकार्ता। एशियन गेम्स 2018 के नौवें दिन बैंडमिटन सेमीफाइनल में पीवी सिंधू ने इतिहास रच दिया है, उन्होंने जापान की अकाने को 21-17, 15-21, 21-10 से हरा दिया है। वहीं दूसरी तरफ भारतीय स्क्वैश खिलाड़ी दीपिका पल्लीकल ने महिला सिंगल्स इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीत लिया। हालांकि, साइना नेहवाल बैडमिंटन सेमीफाइनल में नहीं जीत सकीं। उनका मुकाबला वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी चीनी ताइपे ताइ जू यिंग से था। ताइ यू यिंग ने साइना को सीधे मैचों में 21-17, 21-14 से हरा दिया। इसके साथ ही साइना ने ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम कर लिया है, और वो एशियन गेम्स में मेडल जीतने वाली पहली महिला शटलर भी बन गई हैं। अब भारत के पास कुल 37 मेडल हो गए हैं, जिनमें 7 गोल्ड, 10 सिल्वर, 20 ब्रॉन्ज शामिल हैं। बता दें कि 1982 के बाद भारत ने पहली बार बैडमिंटन सिंगल्स इवेंट में पहली बार कोई मेडल हासिल किया है। 1982 में बैडमिंटन सिंगल्स इवेंट में सैयद मोदी ने भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

 

 

साइना के मुकाबले यिंग ने लगातार लिए 5 पॉइंट
इस बार भी साइना नेहवाल ने पहले गेम की तरह में सेट होने में समय लिया। साइना की गलतियों का फायदा उठाते हुए शुरुआत में ताइ जू यिंग ने 5-1 की बढ़त ले ली। वापसी करते हुए साइना ने स्कोर 6-7 तक पहुंचा दिया और फिर 8-8 से बराबरी पर ला दिया। स्कोर 9-9, 10-10 तक बराबर चला। यिंग ने लगातार 5 पॉइंट लेकर स्कोर 15-10 कर दिया। चीनी ताइपे की खिलाड़ी ने यह गेम 19 मिनट में 21-17 से अपने नाम किया। 

दूसरा गेम: 21-14 से यिंग ने दर्ज की जीत
दूसरे गेम में साइना दबाव में नजर आईं। विपक्षी खिलाड़ी ने 5-1 की बढ़त ले ली। साइना ने स्कोर 6-6 बराबर कर लिया। इसके बाद यिंग ने उठाया और 10-7 की बढ़त ले ली। साइना ने लगातार 3 पॉइंट लेकर स्कोर 10-10 से बराबरी पर ला खड़ा किया। यहां साइना ने ड्रॉप शॉट का जबरदस्त इस्तेमाल करते हुए 4 पॉइंट जुटाए और 14-13 की बढ़त ले ली। यिंग ने लगातार पॉइंट लेकर 21-14 से जीत दर्ज की।

खबरें और भी हैं...