दैनिक भास्कर हिंदी: FIFA WC में बेल्जियम ने पाया तीसरा स्थान, इंग्लैंड को 2-0 से हराया

July 15th, 2018

हाईलाइट

  • फीफा वर्ल्ड कप में तीसरे स्थान के लिए मुकाबले में बेल्जियम ने इंग्लैंड को 2-0 से हरा दिया
  • चेडली के शानदार क्रॉस पर म्यूनियर ने बेल्जियम के लिए पहला गोल किया
  • मैच के 82वें मिनट में हज़ार्ड ने डी ब्रुइन के पास पर टीम को 2-0 की निर्णायक लीड दिलाई

डिजिटल डेस्क, मॉस्को। फीफा वर्ल्ड कप 2018 में शनिवार को खेले गए तीसरे स्थान के लिए मुकाबले में बेल्जियम ने इंग्लैंड को 2-0 से हरा दिया। इंग्लैंड पर हासिल हुई इस जीत के साथ ही बेल्जियम ने टूर्नामेंट का अंत तीसरा स्थान हासिल कर किया। वहीं इंग्लैंड की टीम को चौथे स्थान से ही संतोष करना पड़ा। दोनों ही टीमें अपने-अपने सेमीफाइनल मैच हारकर फाइनल की रेस से पहले ही बाहर हो चुकी थी। बेल्जियम की टीम को पहले सेमीफाइनल में फ्रांस की टीम ने 1-0 से हराया था। वहीं इंग्लैंड की टीम को दूसरे सेमीफाइनल में क्रोएशिया की टीम ने 2-1 से हरा दिया था।

बेल्जियम ने मैच की शुरुआत से ही अटैकिंग खेल दिखाया। मैच के चौथे मिनट में ही बेल्जियम के चेडली के शानदार क्रॉस पर म्यूनियर ने गोल कर अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। म्यूनियर का यह बेल्जियम की तरफ से छठा गोल था। वह बेल्जियम की तरफ से इस वर्ल्डकप में गोल करने वाले 10वें खिलाड़ी हैं। हालांकि इसके बाद इंग्लैंड ने ताबड़तोड़ कई हमले बोले, लेकिन बेल्जियम के गोलकीपर ने शानदार बचाव करते हुए एक भी गोल नहीं पड़ने दिया। मैच के 20वें मिनट में रोमेलो लुकाकू को गोल करने का एक बेहतरीन मौका मिला पर वह चूक गए। 25वें मिनट में इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन ने शानदार ड्रिबलिंग दिखाते हुए एक शॉट लगाया पर वह गोल पोस्ट के ऊपर से चला गया। इस तरह हाफ टाइम तक बेल्जियम 1-0 से आगे रहा। पहले हॉफ में बेल्जियम ने 7 शॉट अटेम्प्ट किए, वहीं इंग्लैंड ने 6 शॉट अटेम्प्ट किए।

दूसरे हाफ की शुरुआत में इंग्लैंड ने दो रिप्लेसमेंट किए। रोज को हटा कर फॉरवर्ड लिंगार्ड और स्टरलिंग को हटाकर रैशफोर्ड को मैदान पर भेजा। मैच के दूसरे हाफ में भी बेल्जियम ने अटैक जारी रखा। मैच के 51वें मिनट में इंग्लैंड को गोल करने का सबसे बेहतरीन मौका मिला। रैशफोर्ड के एक शानदार पास पर एरिक डायर ने बेल्जियम के गोलकीपर को छकाते हुए शॉट लगाया। लेकिन बेल्जियम के एलडरवियरल्ड ने डाइव लगाते हुए उनके इस शॉट को डिफ्लेक्ट कर दिया। मैच के 82वें मिनट में हज़ार्ड ने एक बार फिर विरोधी गोलपोस्ट पर हमला किया। डी ब्रुइन के शानदार पास पर हज़ार्ड ने गोल कर अपनी टीम को 2-0 से आगे कर दिया। इस लेट गोल से इंग्लैंड की टीम उबर नहीं सकी। इस तरह बेल्जियम ने यह मैच जीत लिया। बेल्जियम ने इस साल अपने रैंक को सुधारकर अब तक के वर्ल्डकप में सर्वश्रेष्ठ तीसरा स्थान हासिल किया।

बता दें कि इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन 6 गोल के साथ गोल्डन बूट की रेस में सबसे आगे हैं। वहीं बेल्जियम के लुकाकु 4 गोल के साथ दूसरे स्थान पर रहे। बेल्जियम के हैज़ार्ड ने इस मैच में बेहतरीन प्रदर्शन किया और वह गोल्डन बॉल के प्रबल दावेदार भी माने जा रहे हैं।

मैच में बेल्जियम ने कुल 12 अटेम्प्ट्स किए जिसमें से 4 ऑन टारगेट थे। वहीं इंग्लैंड ने 15 अटेम्प्ट्स किए, जिसमें से 5 ऑन टारगेट थे। बेल्जियम ने 11 फाउल किए वहीं इंग्लैंड ने 5 फाउल किए। मैच में इंग्लैंड के पास 57% बॉल पज़ेशन रहा, वहीं बेल्जियम के पास 43% बॉल पज़ेशन रहा। हालांकि सेमीफाइनल में हार से पहले इंग्लैंड बेल्जियम का सफर इस वर्ल्डकप में शानदर रहा है। बेल्जियम की टीम ने ग्रुप स्टेज में अपने सारे मैच जीतने के बाद क्वार्टरफाइनल में बेल्जियम ने टूर्नामेंट फेवरेट ब्राजील को 2-1 से हराया था और 32 साल बाद सेमीफाइनल में पहुंची थी। वहीं इंग्लैंड की टीम ने करिश्माई कोच साउथगेट और कप्तान हैरी केन की लीडरशिप में बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया। ग्रुप स्टेज में शानदार स्ट्रेट्जी और स्ट्रांग डिफेंस के दम पर इंग्लैंड की टीम ने पहले प्री-क्वार्टर्स में कोलंबिया को पेनल्टी शूट में 4-3 से हराया और फिर क्वार्टरफाइनल में स्वीडन को 2-0 से हराकर 28 साल बाद सेमीफाइनल में जगह बनाई।