दैनिक भास्कर हिंदी: FIFA WC Awards : लुका मॉड्रिच ने जीता गोल्डन बॉल, हैरी केन ले गए गोल्डन बूट

July 16th, 2018

हाईलाइट

  • इंग्लैंड के हैरी केन ने सर्वाधिक 6 गोल कर गोल्डन बूट अवॉर्ड अपने नाम किया।
  • क्रोएशिया के लुका मॉड्रिच ने गोल्डन बॉल अवॉर्ड जीता।
  • बेल्जियम के थिबॉट कोर्टोइस को बेस्ट गोलकीपिंग के लिए गोल्डन ग्लव्स अवॉर्ड दिया गया।

डिजिटल डेस्क, मॉस्को। पिछले एक महीने से चल रहे फीफा वर्ल्ड कप में 64 रोमांचक मैचों और करीब 167 गोलों के बाद आख़िरकार फ्रांस चैंपियन बन गया। फाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से हराया और 20 साल बाद एक बार फिर खिताब अपने नाम कर लिया। इसी के साथ फुटबॉल फैंस के उन सारे कयासों पर भी विराम लग गया, जो वर्ल्ड कप के दौरान गोल्डेन बूट, गोल्डन बॉल और गोल्डन ग्लव्स के लिए लगाए जा रहे थे। फाइनल मैच खत्म होते ही अवॉर्ड सेरेमनी में FIFA ने वर्ल्ड कप के दौराना दमदार प्रदर्शन करने के लिए अलग-अलग कैटेगरी में दिए जाने वाले इन अवॉर्ड्स की घोषणा कर दी गई।

इंग्लैंड के हैरी केन ने जीता गोल्डन बूट अवॉर्ड

गोल्डन बूट का अवॉर्ड टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी को दिया जाता है। हैरी केन ने सर्वाधिक 6 गोल के साथ इस खिताब पर अपना नाम लिखवा लिया है। हैरी केन ने इंग्लैंड की तरफ से एक वर्ल्ड कप में सर्वाधिक गोल करने के गैरी लिनेकर के 6 गोल के रिकॉर्ड की बराबरी की। वहीं फ्रांस के एंटोनियो ग्रीजमान 4 गोल और दो असीस्ट के साथ दूसरे स्थान पर रहे। पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्‍डो 4 गोल के साथ तीसरे स्थान पर रहे। रूस के डेनिस चेरिशेव, बेल्जियम के रोमेलु लुकाकू और फ्रांस के ही कीलियन मबापे ने भी 4-4 गोल दागे।

क्रोएशिया के लुका मॉड्रिच ने जीता गोल्डन बॉल अवॉर्ड

गोल्डन बॉल का खिताब टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को मिलता है। लुका मॉड्रिच को उनके बेहतरीन प्रदर्शन और अपनी टीम को लीड करने के लिए इस अवॉर्ड से नवाजा गया। इस होड़ में क्रोएशिया के कप्तान लुका मॉड्रिक के साथ-साथ फ्रांस के कायलिन मबापे, बेल्जियम के केविन डि ब्रूइन और एडेन हैजार्ड थे, लेकिन मॉड्रिच इन सभी को पीछे छोड़ते हुए बेस्ट प्लेयर ऑफ दी टूर्नामेंट का अवॉर्ड अपने नाम किया। मॉड्रिच ने नाइजीरिया और फिर अर्जेंटीना के खिलाफ शानदार गोल दागे थे। मॉड्रिच को दुनिया का सबसे बेहतरीन मिडफिल्डर के रूप में भी जाना जाता है।

बेल्जियम के थिबॉट कोर्टोइस ने जीता गोल्डन ग्लव्स अवॉर्ड

वर्ल्डकप में गोलकीपरों को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए गोल्डन ग्लव्स का अवॉर्ड दिया जाता है। इस वर्ल्डकप में यह खिताब बेल्जियम के थिबॉट कोर्टोइस ने जीत लिया है। उन्होंने गोल्डन ग्लव्स की रेस में इंग्लैंड के जॉर्डन पिकफोर्ड, क्रोएशिया के सुबासिच और फ्रांस के ह्यूगो लॉरिस को पीछे छोड़कर इस खिताब पर अपना नाम लिखवा लिया। 1994 वर्ल्डकप में गोल्डन ग्लव्स अवॉर्ड देने की शुरूआत की गई थी। 2010 से पहले इस अवॉर्ड को लेव याशिन अवॉर्ड के नाम से जाना जाता था, लेकिन 2010 फीफा विश्व कप से इसका नाम बदलकर गोल्डन ग्लव्स अवॉर्ड कर दिया गया।

फ्रांस के युवा सनसनी कीलियन मबापे बने यंग प्लेयर ऑफ दी टूर्नामेंट

फ्रांस के कीलियन मबापे ने 4 गोल कर अपनी टीम को विश्व विजेता बना दिया। इसका इनाम उन्हें यंग प्ल्यर ऑफ दी टूर्नामेंट के रूप में मिला। मबापे ने फाइनल में एक गोल दागा। इसके साथ ही वह ब्राजील के महान खिलाड़ी पेले के बाद दूसरे ऐसे खिलाड़ी बने जिसने टीन एज में फाइनल में गोल किया हो। पेले ने ट्वीट कर उन्हें बधाई भी दी। मबापे ने इस वर्ल्डकप में अपने स्पीड और अपनी क्षमता से सभी को प्रभावित किया। उन्हें फुटबॉल एक्सपर्ट आने वाले समय के महान खिलाड़ी भी बता रहे हैं।

फीफा फेयर प्ले अवॉर्ड स्पेन को

फीफा का फेयर प्ले अवॉर्ड स्पेन को गया। स्पेन को यह अवॉर्ड खेल भावना का सम्मान करने के लिए दिया गया। बता दें कि स्पेन के खिलाड़ियों को टूर्नामेंट में सबसे कम येलो कार्ड मिले थे।