comScore

एक और उलटफेर, FIFA WC से स्पेन भी बाहर, रूस ने पेनल्टी शूटआउट में हराया

July 02nd, 2018 14:24 IST

हाईलाइट

  • अर्जेंटीना और पुर्तगाल के बाद पूर्व वर्ल्ड चैंपियन स्पेन भी वर्ल्डकप से बाहर हो गया है।
  • 70वीं रैंक पर काबिज मेजबान देश रूस की टीम ने रोमांच से भरे इस मुकाबले में स्पेन को पेनल्टी शूटआउट में 4-3 से हराया है।
  • रूस 1970 के बाद पहली बार वर्ल्डकप के क्वार्टरफाइनल में पहुंच गई है।

डिजिटल डेस्क, मॉस्को। अर्जेंटीना और पुर्तगाल के बाद पूर्व वर्ल्ड चैंपियन स्पेन भी वर्ल्डकप से बाहर हो गया है। 2010 की वर्ल्ड चैंपियन स्पेन को इस वर्ल्डकप की सबसे लोवेस्ट रैंक टीम ने मात दी है। 70वीं रैंक पर काबिज मेजबान देश रूस की टीम ने रोमांच से भरे इस मुकाबले में स्पेन को पेनल्टी शूटआउट में 4-3 से हराया है। इस जीत के साथ ही रूस 1970 के बाद पहली बार वर्ल्डकप के क्वार्टरफाइनल में पहुंच गई है। हालांकि उस समय सोवियत रूस का विघटन नहीं हुआ था।

दोनों टीमें 90 मिनट के खेल तक 1-1 की बराबरी पर थी। मैच में मिले 30 मिनट के एक्स्ट्रा टाइम में भी दोनों टीमों का स्कोर 1-1 ही रहा। इसके बाद पेनल्टी शूटआउट का सहारा लिया गया। इसमें रूस की ओर से स्मोलोव, इग्नेशविच, गोलोविन और चेरिशेव ने गोल किए। वहीं दूसरी तरफ स्पेन की ओर से इनिएस्ता, पीके और रामोस ही गोलकीपर अक़ीनफीव को छका पाए। रूसी गोलकीपर ने कोके और इएगो आसपास के शॉट रोककर रूसी खेमे में खुशी की लहर दौड़ा दी। अक़ीनफीव को मैन ऑफ दी मैच भी चुना गया।
 



पहले हॉफ में स्पेन को अच्छी शुरुआत मिली। मैच के 12वें मिनट में ही रामोस के एक हेडर पर रूस के इग्नेशविच के पैर से डिफ्लेक्ट होकर बॉल गोलपोस्ट में चली गई। इस आत्मघाती गोल की बदौलत स्पेन 1-0 से आगे हो गई। हालांकि रूस ने पहले हॉफ में ही ज्यूबा 41वें मिनट में पेनल्टी स्पॉट से किए गोल के दम पर बराबरी कर ली। 40वें मिनट में बॉक्स के अंदर स्पेन के डिफेंडर पीके ने हैंड बॉल किया, इसके बाद रूस को पेनल्टी शूट मिला। इस गोल के बाद स्कोर 1-1 हो गया।

दूसरे हॉफ में मुकबला टक्कर का रहा। दोनों टीमों ने कुछ अच्छे मौके बनाए लेकिन कोई भी टीम गोल नहीं कर पाई और मैच पहली बार एक्स्ट्रा टाइम में चला गया। 30 मिनट के इस एक्स्ट्रा टाइम में स्पेन ने और आक्रामक खेल दिखाते हुए एक के बाद एक कई गोल अटेम्पट किए लेकिन रूस के मजबूत डिफेंस को भेद पाने में स्पनिश स्ट्राइकर नाकाम रहे।आखिरकार मैच पेनल्टी शूटआउट में चला गया। यह इस वर्ल्डकप में पहला अवसर था। रूस ने इस पेनल्टी शूटआउट में अनुभवी स्पेन को मात दी और 1970 के बाद पहली बार वर्ल्डकप के क्वार्टरफाइनल में पहुंच गई।



मैच के कुल 120 मिनट में एक तिहाई समय तक स्पेन ने बॉल को अपने पास रखा और करीब 25 गोल अटेम्पट किए, लेकिन बॉल पज़ेशन और गोल अटेम्पट पूर्व चैंपियन को जीत न दिला सके। यह स्पेन के लिए बहुत ही शर्मनाक हार है, क्योंकि रूस की टीम को वर्ल्डकप में सबसे कमजोर टीम माना गया था। रूस के लिए यह जीत कोई चमत्कार से कम नहीं है। रूस की इस जीत के बाद स्टेडियम के अंदर और बाहर मौजूद हजारों दर्शकों को जश्न मनाते देखा गया।

कमेंट करें
xLIso