comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अब तक के सबसे उन्नत ओलंपिक खेलों के लिए तैयार है जापान!

October 22nd, 2019 15:30 IST
 अब तक के सबसे उन्नत ओलंपिक खेलों के लिए तैयार है जापान!

हाईलाइट

  • अब तक के सबसे उन्नत ओलंपिक खेलों के लिए तैयार है जापान!

नई दिल्ली, 22 अक्टूबर (आईएएनएस)। जापान दूसरी बार ओलंपिक खेलों की मेजबानी के लिए तैयार है। जापान का दावा है कि टोक्यो में अगले साल तकनीकी रूप से अब तक के सबसे उन्नत ओलंपिक खेलों का आयोजन होगा। जापान ने इससे पहले 1964 में ओलंपिक की मेजबानी की थी और तब भी उसने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिहाज से कई अनुपम प्रयोग किए थे।

अब 55 साल बाद जापान एक बार फिर अपनी प्रौद्योगिकी सम्बंधी ताकत को दुनिया को दिखाने के लिए तैयार है। 1964 में जब जापान ने पहली बार ओलंपिक की मेजबानी थी, तब वह 1945 में अपनी धरती पर हुए परमाणु हमलों के प्रभाव से उबर रहा था। वह इस प्रभाव से हालांकि अब तक नहीं उबर सका है लेकिन अब वह उस घटना को भूलकर प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में दुनिया में न्यूमरो यूनो बन चुका है।

टोक्यो-2020 के लिए जापान ने कई ऐसी तैयारियां की हैं, जिनसे ओलंपिक खेलों की सूरत पूरी तरह बदल जाएगी। टोक्यो-2020 को खिलाड़ियों और दर्शकों के लिए अधिक से अधिक सुविधाजनक और आकर्षक बनाने के लिए जापान ने आठ साल पहले ही तैयारी शुरू कर दी थी और अब उसकी अधिकांश तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। इनमें कुछ ऐसी चीजें, जिनकी परिकल्पना सिर्फ जापान ही कर सकता है।

जापान ने सबको हैरान करते हुए मुख्य ओलंपिक मशाल को जलाने के लिए फ्लाइंग कार के इस्तेमाल की घोषणा की थी। इसके अलावा उसने ओलंपिक के दौरान टूरिस्ट गाइड के रूप में रोबोट्स के इस्तेमाल के अलावा खिलाड़ियों और दर्शकों को अत्यधिक गर्मी और भूकम्प के खतरे से बचाने के लिए पूरी तरह भूकम्प और ऊष्मा रोधी स्टेडियम बनाने का काम पूरा कर लिया है।

वेबसाइट द सन के मुताबिक जापान ने अपनी इस परिकल्पना को फ्यूचर आइलैंड टोक्यो 2020 नाम दिया है। जापान ने सालों तक अपनी इस परिकल्पना को छुपाए रखा लेकिन अब धीरे-धीरे चीजें सामने आने लगी हैं। इनमें सबसे चौंकाने वाली परिकल्पना फ्लाइंग कार की हो सकती है, जिसकी मदद से उद्घाटन के अवसर पर मुख्य मशाल को प्रज्जवित किया जा सकता है।

इसके लिए जापान सरकार ने अपने यहां की वाहन बनाने वाली दिग्गज कम्पनी टोयोटा के साथ करार किया है और इसे लेकर जारी काम अंतिम चरण में है। इस कार में सवार होकर एथलीट ओलंपिक मशाल जलाएगा। टोयोटा ने इस तरह की कार डिजाइन कर ली है। 2017 में वह इस कार का नमूना दुनिया के सामने पेश कर चुका है।

जापान दुनिया के सबसे सक्रिय सेसमिक जोन में आता है। वहां भूकम्प आम बात है। 2011 में आए विनाशकारी भूकम्प के कारण जापान में रेडियोधर्मी कणों के फैलने का खतरा पैदा हो गया था। इन सब बातों से सीख लेते हुए जापान ने ऐसे स्टेडियम तैयार किए हैं, जो भयंकर से भयंकर भूकम्प को भी झेल सकते हैं। जापान ने टोक्यो एक्वेटिक एरेना, एरियाके एरेना और न्यू नेशनल स्टेडियम को पूरी तरह भूकम्प रोधी बनाया है।

टायर और रबर बनाने वाली दुनिया की अग्रणी कम्पनियों में से एक ब्रिजस्टोन कारपोरेशन ने स्टेडियमों के रूफ्स के नीचे लगाने के लिए कटिंग एज सेसमिक आइसोलेशन बीयरिंग्स का निर्माण किया है। इनकी मदद से स्टेडियम जबरदस्त भूकम्प की स्थिति में भी सुरक्षित रहेंगे। इस तकनीक का इस्तेमाल दुनिया की कई ऊंची इमारतों में हो रहा है।

न्यू नेशनल स्टेडियम, जिसमें उद्घाटन एवं समापन समारोह के अलावा एथलेट्क्सि इवेंट्स होने हैं, में बहुत बड़े पैमाने पर लकड़ी का इस्तेमाल हुआ है। इस स्टेडियम का उद्घाटन 21 दिसम्बर को किया जाना है। इसमें थ्री-टीयर स्टैंड्स हैं और इसकी क्षमता 60 हजार है।

ऐसे में जबकि गर्मियों में जापान में अधिकतम तापमान 31 डिग्री तक पहुंच जाता है, न्यू नेशनल स्टेडियम की लकड़ी की छतें इसके नीचे बैठने वालों को गर्मी का अहसास तक नहीं होने देंगी। स्टैंड्स के आसपास 185 बड़े आकार के कूलर्स लगाए जाएंगे, जो मैदान में खेल रहे खिलाड़ियों और दर्शकों की ओर ठंढी हवा फेकेंगे।

इसके अलावा लोगों के आवागमन के लिए हाइड्रोजन और बैटरी से चलने वाली गोल्फ कार्ट तथा मिनी बस की आकार की बसें तैयार की गई हैं, जो इस ओलंपिक को पूरी तरह हरित ओलंपिक बनाएंगी। इनमें वे रोबोटिक बसें भी शामिल हैं, जिन्हें खासतौर पर खिलाड़ियों के लिए तैयार किया गया है।

वेबसाइट-टोक्यो2020 डॉट ओआरजी के मुताबिक टोक्यो ओलंपिक के दौरान सबसे अधिक आकर्षण का केंद्र महिला रोबोटिक टूर गाइड्स होंगी, जो पांच भाषाओं में लोगों की बात समझ सकेंगी और उनकी जरूरत के हिसाब से सलाह दे सकेंगी। इन रोबोटिक टूर गाइड्स को एरिसा नाम दिया गया है। एरिसा छह फुट की एक महिला रोबोट टूर गाइड होगी। एरिसा देखने में बिल्कुल इंसानों की तरह होगी।

यही नहीं, जापान ने दिव्यांग लोगों का ख्याल रखते हुए उन्हें पानी तथा खाने-पीने की चीजें मुहैया कराने के लिए रोबोट्स का इस्तेमाल करने का फैसला किया है। ये रोबोट्स खाने-पीने की चीजें मुहैया कराने के अलावा लोगों को करीबी टॉयलेट और आस-पास के जगहों की जानकारी देंगी।

कमेंट करें
z4ADC
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।