comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जब पापा धोनी को बेटी जीवा ने कहा हैप्पी बर्थडे

July 07th, 2018 18:07 IST

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी का भारत के लिए क्रिकेट खेलना इस खेल में घटी कुछ बेहतरीन घटनाओं में से एक है। उनकी नेतृत्व करने की अद्भुत क्षमता और विकेट के पीछे जादूगरी दिखाने की कमाल की कला उन्हें भारत के महानतम क्रिकटरों में शामिल करती है। मैदान पर जहां धोनी एक बेमिसाल खिलाड़ी हैं वहीं मैदान के बाहर वो एक ऐसे जिम्मेदार शख्स हैं, जो देश के लिए खेलने के बाद अपने परिवार को सबसे ज्यादा तरजीह देते हैं। साल का ज्यादातर वक्त धोनी अपनी टीम के साथ दूसरे देशों और शहरों में रहकर गुजारते हैं, लेकिन जैसे ही उन्हें क्रिकेट से फुर्सत मिलती है वो अपना सारा वक्त परिवार को देते हैं।
 

Image result for ms dhoni

भारतीय क्रिकेट के सुपरस्टार माने जाने वाले धोनी आज अपना 37वां जन्मदिन मना रहे हैं। हमेशा की ही तरह वो अपनी टीम के साथ दौरे पर हैं, लेकिन उनकी टीम ने आधी रात को ही अपने फेवरेट सीनियर प्लेयर का जन्मदिन मनाने की बड़ी खास तैयारियां कर रखी थीं। टीम इंडिया के सदस्यों ने माही के जन्मदिन पर केक काटा और इस दौरान हर एक का ध्यान धोनी की बेटी जीवा पर ही था। जीवा अपने प्यारे पापा का बर्थडे सेलिब्रेट करना चाहती थी और इसकी खुशी जीवा के चेहरे पर भी देखने को मिली।
 

Image result for ziva dhoni

टीम इंडिया ने धोनी के बर्थडे सेलिब्रेशन का ये वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया। वीडियो में जीवा के साथ ही धोनी की लविंग वाइफ साक्षी भी अपने डियर हबी का बर्थडे सेलिब्रेट करती नजर आ रही हैं। वहीं पूरी टीम इंडिया के साथ वहां मौजूद लोग भी धोनी के लिए 'हैप्पी बर्थडे' सॉन्ग गा रहे हैं।
 

Image result for ziva dhoni ipl

पापा धोनी और बेटी जीवा का ये बॉण्ड दर्शकों ने इसी साल IPL2018 के दौरान भी देखा था। धोनी ने अपनी टीम चेन्नई सुपरकिंग्स को खिताब जिताने के बाद बेटी जीवा के साथ खूब मस्ती की थी, जबकि उस दौरान उनकी टीम मैदान में जश्न मना रही थी। धोनी ने ये भी कहा था कि जीवा उनके जीवन की सबसे बड़ी और सबसे कीमती ट्रॉफी है जो उन्हें मिली है।

धोनी के 37नें जन्मदिन पर उनके लाखों फैंस और साथी खिलाड़ियों का बधाई देने का सिलसिला जारी है। धोनी को सुरेश रैना और पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने भी ट्विटर पर जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। 

कमेंट करें
zaobc
कमेंट पढ़े
Suresh Chandra Lodhi April 15th, 2019 10:26 IST

'wORLD CUP 2019 WIN HO '

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।