दैनिक भास्कर हिंदी: सचिन ने अपने जिंदगी भर के दोस्तों के साथ शेयर की फोटो, कांबली ने लिखा इमोशनल मैसेज

September 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर अपने खास दोस्तों के साथ इंस्टाग्राम पर एक फोटो पोस्ट की है। इस फोटो को सोशल मीडिया पर काफी पसंद किया जा रहा है। इस फोटो में सचिन के साथ उनके 'जिंदगी भर के दोस्त' हैं। सचिन की इस फोटो में उनके साथ विनोद कांबली का होना हैरान करने वाली बात है, क्योंकि काफी समय से दोनों के बीच बातचीत बंद थी। हालांकि सचिन और कांबली एक-दूसरे को बचपन से जानते हैं और साथ में ही क्रिकेट खेलना शुरू किया था। सचिन की इस फोटो के बाद कांबली ने भी एक 'इमोशनल मैसेज' के साथ इस फोटो को शेयर किया है।

सचिन ने 'जिंदगी भर के दोस्तों' के साथ शेयर की फोटो

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपने दोस्तों के साथ फोटो सेयर की है। इस फोटो पर सचिन ने कैप्शन में लिखा 'क्रिकेट ने मुझे जो सबसे शानदार चीजें दी हैं, उनमें जीवनभर के दोस्त शामिल हैं। इनके साथ ऑन फील्ड और ऑफ फील्ड कभी भी कोई बोरिंग नहीं होता।' इस फोटो में सचिन के साथ विनोद कांबली के अलावा टीम इंडिया के फॉर्मर बॉलर अजीत आगरकर, अमोल मजूमदार, अतुल रनाडे, अजय देसाई और नीलेश कुलकर्णी भी नजर आ रहे हैं। 

कांबली ने लिखा 'इमोशनल मैसेज'

इसी फोटो को विनोद कांबली ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है और इसके साथ बड़ा ही 'इमोशनल मैसेज' भी लिखा है। कांबली ने इस फोटो को शेयर करते हुए लिखा 'जिंदगी के हर दौर में आपके बेस्ट फ्रेंड होते हैं, लेकिन कुछ लक लकी लोगों के ही हर दौर में सेम फ्रेंड होते हैं।'

कैसे हुई थी दोनों में लड़ाई? 

बचपन के साथी और इन दोनों दिग्गज क्रिकेट खिलाड़ियों की दोस्ती काफी मशहूर रही है। इसमें उस वक्त दरार आ गई थी, जब विनोद कांबली ने जुलाई, 2009 में सचिन के खिलाफ एक बयान दिया था। कांबली ने एक टीवी शो में यह कहते हुए तहलका मचा दिया था कि सचिन ने उन्हें क्रिकेट में वापसी के लिए मदद नहीं की। यह बात सचिन के दिल पर इतनी जोर से लगी कि उन्होंने 2013 में 200वां टेस्ट खेलने के बाद रिटायरमेंट के दौरान वानखेड़े स्टेडियम में दी गई स्पीच में सभी का नाम तो लिया, लेकिन कांबली का कहीं भी जिक्र नहीं किया।

बचपन का याराना

सचिन तेंदूलकर और विनोद कांबली के बीच बचपन का याराना रहा है। दोनों ने एक साथ पढ़ाई की है, और क्रिकेट भी एक साथ ही खेला है। स्कूल क्रिकेट के दौरान इन्होंने नॉट आउट 664 रन की पार्टनरशिप का रिकॉर्ड भी बनाया था, जो कई सालों बाद टूटा। इन दोनों दोस्तों ने मुंबई के लिए और फिर टीम इंडिया के लिए भी एक साथ ही क्रिकेट खेला है। हालांकि सचिन का करियर ज्यादा लंबा रहा है, कांबली के मुकाबले। दोनों के कोच भी एक ही थे-रमाकांत आचरेकर।