comScore

Senior National Cship: साइना ने सिंधू को हराकर लगातार दूसरी बार जीता खिताब

February 17th, 2019 13:09 IST
Senior National Cship: साइना ने सिंधू को हराकर लगातार दूसरी बार जीता खिताब

हाईलाइट

  • विमेंस सिंगल्स के फाइनल मुकाबले में साइना ने सिंधू को 21-18, 21-15 से हराया
  • साइना ने लगातार दूसरी बार जीता नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप का खिताब
  • नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप में साइना का यह चौथा खिताब है, इससे पहले 2006, 2007 और 2017 में यह खिताब जीता था

डिजिटल डेस्क, गुवाहाटी। स्टार शटलर साइना नेहवाल ने शनिवार को 83वें सीनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप का खिताब जीता है। साइना ने लगातार दूसरी बार यह खिताब जीता है। विमेंस सिंगल्स के फाइनल मुकाबले में साइना ने सिंधू को 21-18, 21-15 से हराकर यह खिताब अपने नाम किया है। वहीं मेंस सिंगल्स के फाइनल मुकाबले में सौरभ वर्मा ने एशियाई जूनियर चैंपियन लक्ष्य सेन को 21-18, 21-13 से हराकर खिताब अपने नाम किया। टूर्नामेंट में सिंगल्स का खिताब जीतने वाले खिलाड़ियों को 3.5 लाख रुपए और उपविजेताओं को 1.7 लाख रुपए दिए गए। सिंगल्स में सेमीफाइनल और क्वार्टर फाइनल में पहुंचने वाले खिलाड़ियों को 62,500 और 27,500 रुपए का पुरस्कार मिला।

फाइनल मुकाकबले में साइना ने धीमी शुरुआत की, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने सिंधू पर दबदबा बनाया। पहले गेम में 1-3 से पीछे रहने के बाद उन्होंने वापसी की और 5-5 से बराबरी की। इसके बाद दोनों खिलाड़ियों के बीच जोरदार टक्कर हुई और स्कोर एक समय 10-10 तक पहुंच गया। साइना ने इसके बाद अपने अनुभव का फायदा उठाकर सिंधू पर 16-12 की बढ़त हासिल कर ली। इसके बाद साइना ने सिंधू को अंक लेने से रोकते हुए यह गेम अपने नाम किया। दूसरे गेम में सिंधू ने आक्रामक शुरूआत की और 5-3 की बढ़त बनाई। इसके बाद साइना ने वापसी और स्कोर 17-13 कर दिया। साइना ने सिंधू पर दबदबा बनाए रखा और दूसरा गेम 21-15 से अपने नाम कर खिताब जीता। दोनों खिलाड़ियों के बीच यह मुकाबला 44 मिनट तक चला। साइना का यह चौथा खिताब है। उन्होंने इससे पहले 2006, 2007 और 2017 में यह खिताब जीता था। वहीं, सिंधू अगर जीत जातीं तो उनका यह तीसरा खिताब होता। वह इससे पहले 2011 और 2013 में चैंपियन रह चुकी हैं। 

मेंस सिंगल्स में सौरभ वर्मा और लक्ष्य सेन के बीच जबर्दस्त मुकाबला देखने को मिला। दोनों इससे पहले 2017 के फाइनल में एक-दूसरे से भिड़ चुके हैं। 17 साल के सेन ने पहले तो 6-6 की बराबरी के साथ गेम की शुरुआत की और फिर वह 11-6 की बढ़त हासिल की। सौरभ ने इसके बाद चार अंक हासिल किए, लेकिन सेन ने फिर से 15-13 की बढ़त बना ली थी। हालांकि सेन को अपनी गलतियों की कीमत चुकानी पड़ी और सौरभ ने 21-18 से पहला गेम अपने नाम कर लिया। सेन ने दूसरे गेम में भी 0-3 से पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए स्कोर 4-4 से बराबर कर दिया। सौरभ ने इसके बाद सेन को कोई मौका नहीं दिया और 21-13 से गेम जीता। दोनों खिलाड़ियों के बीच यह मुकाबला 44 मिनट तक चला। सौरभ ने इससे पहले 2011 और 2017 में भी यह खिताब जीता है।  

वहीं मेंस डबल्स के फाइनल मुकाबले में चिराग शेट्टी और प्रणय जेरी चोपड़ा की जोड़ी ने अर्जुन एमआर और श्लोक रामचंद्रन की जोड़ी को 21-13, 22-20 से मात देकर खिताब अपने नाम किया। मिक्स डबल्स के फाइनल मुकाबले में मनु अत्री और मनीषा के की जोड़ी ने टॉप सीड रोहन कपूर और कुहू गर्ग की जोड़ी को 18-21, 21-17, 21-16 से हराकर खिताब जीता। विमेंस डबल्स के फाइनल मुकाबले में शिखा गौतम और अश्विनी भट्ट के की जोड़ी ने टॉप सीड मेघना जक्कमपुडी और पूर्विशा एस राम की जोड़ी को 21-16, 22-20 से हराया और खिताब पर कब्जा किया। 

कमेंट करें
u7gWn