दैनिक भास्कर हिंदी: वेस्टइंडीज ने बनाए 356 रन, इंग्लैंड 258 बनाकर भी 6 रनों से जीत गया, जानें कैसे? 

September 28th, 2017

डिजिटल डेस्क, लंदन। इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेली जा रही सीरीज का चौथा वनडे कल ओवल में खेला गया। इस मैच में वो सब कुछ था, जो एक मैच में होता है। इस मैच में रनों की बारिश भी देखने को मिली और आसमानी बारिश भी। लेकिन आसमानी बारिश ने रनों की बारिश ने पानी फेर दिया। इस मैच में वेस्टइंडीज ने पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में 356 रन बनाए, जवाब में इंग्लैंड ने सिर्फ 258 रन ही बनाए और मैच जीत लिया। 

98 रन बनाकर भी कैसा जीता इंग्लैंड? 

वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए ओवल के मैदान पर रनों की जोरदार बारिश कर डाली। कैरेबियाई टीम ने 50 ओवरों में 5 विकेट खोकर 356 रन बनाए। इतना बड़ा स्कोर होने के बाद लग रहा था कि ये मैच इंडीज ही जीतेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 357 रन का टारगेट चेज करने उतरी इंग्लैंड की टीम ने 258 रन बनाए और इस मैच को जीत लिया। इंग्लैंड ने ये स्कोर 35.1 ओवर में 5 विकेट खोकर बनाए। अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे हो गया, कि 98 रन कम बनाने के बाद भी इंग्लैंड कैसे जीत गया? तो ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि इंग्लैंड जब बैटिंग कर रहा था, तो उस दौरान आसमानी बारिश हो गई, जिस कारण मैच रोक दिया गया। इसके बाद डकवर्थ लुईस मेथड इसका नतीजा निकाला गया तो इंग्लैंड 6 रनों से ये मैच जीत गया। 

वेस्टइंडीज की पारी:

मैच में वेस्टइंडीज ने पहली बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 5 विकेट खोकर 356 रन बनाए। टीम की तरफ से एविन लुईस ने सबसे ज्यादा 176 रनों की पारी खेली और रिटायर्ड हट हो गए। लुईस ने इस पारी को खेलते हुए 130 बॉल का सामना किया और इस दौरान उन्होंने 17 चौके और 7 छक्के भी लगाए। लुईस के अलावा जेसन होल्डर के 77 रन और जेसन मोहम्मद के 46 रनों की बदौलत टीम इतना बड़ा स्कोर खड़ा कर पाई। 

इंग्लैंड की पारी: 

इसके बाद इंग्लैंड जब बल्लेबाजी करने आई, तो उसकी शुरुआत काफी अच्छी रही और टीम के ओपनर जेसन रॉय ने 66 बॉलों पर 84 रनों की शानदार पारी खेली। रॉय के आउट होने के बाद इंग्लैंड की रफ्तार थोड़ी धीमी हो गई और जॉनी बेयरेस्टो (39), जो रुट (14), इयॉन मॉर्गन (19) और सैम बिलिंग्स (02) रन बनाकर ही पवैलियन लौट गए। इसके बाद जॉस बटलर (43*) और मोइन अली (48*) ने टीम को संभाला और रन रेट को बरकरार रखा। इसके बाद बारिश की वजह से मैच को रोकना पड़ा और फिर डकवर्थ लुईस मेथड से इसका नतीजा निकाला गया। इसी के साथ इंग्लैंड ये सीरीज भी जीत गया।