comScore

सोशल मीडिया पर देखिए मुख्यमंत्री की लोकप्रियताः फडणवीस

सोशल मीडिया पर देखिए मुख्यमंत्री की लोकप्रियताः फडणवीस

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  आईएएनएस-सीवोटर के सर्वे में सबसेलोकप्रिय मुख्यमंत्रियों की सूची मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पांचवा स्थान मिलने पर विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने तंज कसा है। फडणवीस ने कहा कि किस एजेंसी ने सर्वे किया है यह मुझे नहीं मालूम। पर किसी को उद्धव लोकप्रिय लग रहे हैं तो अच्छी बात है। फडणवीस ने कहा कि यदि सोशल मीडिया पर जाकर मुंबई की अवस्था देखेंगे तो किसकी लोकप्रियता कितनी है यह पता चल जाएगा। उन्होंने कहा कि मेरी मुख्यमंत्री को शुभकामनाएं हैं। हमारी अपेक्षा है कि राज्य सरकार कोरोना काल में अच्छा काम करे। जिससे राज्य और मुंबईवासियों को राहत मिल सके।  शनिवार को ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में फडणवीस ने केंद्र की मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में केंद्र सरकार की उपलब्धियों को गिनाया।फडणवीस ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा के शिवसेना द्वारा धोखा दिए जाने के बयान पर सहमति जताई। 

शिवसेना के विश्वासघात से गंवाई सत्ता
फडणवीस ने कहा कि भाजपा के पुराने सहयोगी दल शिवसेना के विश्वासघात करने के कारण आज हम सत्ता में नहीं हैं। साल 2019 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को जनमत मिला था। भाजपा ने जितनी सीटों पर चुनाव लड़ा था, उसमें से 70 प्रतिशत सीटों पर पार्टी को जीत मिली। इसलिए नड्डा का कथन एकदम सत्य है। फडणवीस ने कहा कि सरकार को चक्रवाती तूफान निर्सग से प्रभावित लोगों को एनडीआरएफ के स्टैंडिंग आर्डर के अतिरिक्त मदद करनी चाहिए। फडणवीस ने कहा कि सरकार की ओर से रायगढ के लिए घोषित 100 करोड़ रुपए की मदद कम है। राज्य सरकार एक झटके में 75 हजार करोड़ रुपए और बाद में 50 हजार करोड़ रुपए कर्ज ले सकती है। इसके अलावा केंद्र की शर्तों का पालन करने पर और कर्ज लिया जा सकता है।

राज्यपाल कोटे की सीटों पर सरकार-राज्यपाल लें फैसला 
विधान परिषद में राज्यपाल कोटे की रिक्त होने वाली 12 सीटों पर नियुक्ति के सवाल पर फडणवीस ने कहा कि संविधान में स्पष्ट है कि राज्यपाल कोटे की सीटों पर विशिष्ट योग्यता वालों को नामित किया जा सकता है। राज्यसभा में इसका काफी पालन होता है पर विधान परिषद में पालन नहीं हो पाता है। इस संबंध में राज्य सरकार और राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी को मिलकर फैसला लेना होगा।

खऱीदी में पारदर्शिता का अभाव
फडणवीस ने आरोप लगाया कि कोरोना काल में सरकार की खरीदी प्रक्रिया में पारदर्शिता नहीं है। उन्होंने कहा कि महामारी खत्म होने के बाद मैं इस बारे में बोलूंगा। फडणवीस ने कहा कि मुंबई में कोरोना संक्रमण की दर ज्यादा है। इसलिए मुंबई में कोरोना की जांच बढ़ाई जानी चाहिए। निजी टेस्ट को लगभग बंद कर दिया गया है। इसको दोबारा शुरू किया जाना चाहिए। 
 


 

कमेंट करें
u9eg2