चेन्नई कारखाना : फोर्ड इंडिया के चेन्नई संयंत्र में काम पर लौटे करीब 1,100 कर्मचारी

June 20th, 2022

हाईलाइट

  • फोर्ड इंडिया के चेन्नई संयंत्र में काम पर लौटे करीब 1,100 कर्मचारी

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के मराईमलाईनगर इलाके में वाहन कंपनी फोर्ड इंडिया के कारखाने के करीब 1,100 कर्मचारी कर्मचारी यूनियन और प्रबंधन के बीच कोई समझौता न होने के बावजूद सोमवार को काम पर लौट गए। बेहतर सेवा समाप्ति पैकेज की मांग को लेकर पिछले 22 दिन से कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं। फोर्ड इंडिया का चेन्नई का कारखाना जल्द ही बंद होने वाला है।

कर्मचारी संगठन के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि सेवा समाप्ति पैकेज से सहमत होने वाले और नहीं सहमत होने वाले कुछ कर्मचारियों ने काम पर आना शुरू कर दिया है।

उसने बताया कि कर्मचारी यूनियन के प्रतिनिधि, प्रबंधन और तमिलनाडु के श्रम विभाग के बीच सोमवार को त्रिपक्षीय बैठक होनी है। इससे पहले श्रम विभाग ने कहा था कि यह मामला कंपनी और कर्मचारियों के बीच का है और उन्हें ही आपसी बातचीत से इसका हल निकालना चाहिए।

फोर्ड इंडिया के इस कारखाने में करीब 2,600 कर्मचारी काम करते हैं। सूत्रों ने बताया कि 400 कर्मचारी संयंत्र के गेट के बाहर हैं और करीब एक हजार कर्मचारी अपने घर पर हैं। एक अन्य यूनियन अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि प्रबंधन हर साल की सर्विस के एवज में पहले 87 दिन का वेतन ऑफर कर रहा था जो उसने बढ़ाकर करीब 110 दिन कर दिया है।

प्रदर्शनरत कर्मचारी लेकिन एक अन्य कार निर्माता कंपनी के सेवा समाप्ति पैकेज के अनुसार पैकेज की मांग कर रहे हैं। उक्त कार निर्माता कंपनी ने हर साल की सर्विस के लिए कर्मचारियों को 135 दिन का वेतन दिया है और साथ ही उनके आयकर का खर्च भी वही उठा रही है। ये कर्मचारी सोमवार से ही धरने पर बैठे हैं। कर्मचारी संगठन के अधिकारी ने कहा कि पहले जो कर्मचारी कारखाने के अंदर प्रदर्शन कर रहे थे, वे अब बाहर गेट पर धरना दे रहे हैं।

यूनियन अधिकारी ने यह भी आशंका जताई कि प्रबंधन भले ही कहे कि वह ईवी नहीं बनाना चाहता है लेकिन कंपनी ईवी के लिए जी-जान से लगी हुई है। कंपनी यह खुलासा नहीं कर रही है कि वह किस संयंत्र में ईवी का निर्माण करेगी। ऐसा लगता है कि इसी संयंत्र में ईवी का निर्माण होना है और उससे पहले कर्मचारियों को हटाया जा रहा है।

यूनियन अधिकारी ने कहा कि इस संयंत्र में अगले कुछ दिनों तक ही उत्पादन होना है। इस संयंत्र में निर्यात के लिए ईकोस्पोर्ट कारें निर्मित की जाती हैं। देश में फोर्ड इंडिया के चार संयंत्र हैं। सितंबर 2021 में वाहन कंपनी ने वित्त वर्ष 21 की अंतिम तिमाही तक गुजरात के साणंद स्थित अपने कारखाने और वित्त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही तक चेन्नई संयत्र को बंद करने की घोषणा की थी। साणंद कारखाने को टाटा मोटर्स ने अधिगृहित करने की घोषणा की है और वहां के कर्मचारी भी अब टाटा के लिए काम करेंगे।

सोर्स: आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.