comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

ऑटो: Honda Unicorn का BS6 वेरिएंट हुआ लॉन्च, इतनी बढ़ गई कीमत

ऑटो: Honda Unicorn का BS6 वेरिएंट हुआ लॉन्च, इतनी बढ़ गई कीमत

हाईलाइट

  • Honda Unicorn BS6 की शुरुआती कीमत 93,593 रुपए है
  • इस बाइक में PGM-FI HET वाला 160cc इंजन दिया गया है
  • 187 mm का ग्राउंड क्लियरेंस है, जो पहले से 8mm ज्यादा है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। होंडा मोटरसाइकल एंड स्कूटर इंडिया (HMSI) ने अपनी पावरफुल बाइक Unicorn (यूनिकॉर्न) को BS6 इंजन के साथ लॉन्च कर दिया है। इंजन के अलावा इस बाइक में कई बदलाव किए गए हैं। बात करें कीमत की तो Honda Unicorn BS6 की शुरुआती कीमत 93,593 (दिल्ली एक्स शोरूम) है।

नई BS-6 Honda Unicorn में 187 mm का ग्राउंड क्लियरेंस है, जो पहले से 8mm ज्यादा है। इसका व्हीलबेस भी पहले से बढ़कर 1335 mm कर दिया गया है। इस बाइक पर कंपनी 3 साल की स्टैंडर्ड वॉरंटी और 3 साल की वैकल्पिक सर्विस वॉरंटी दे रही है।

Hero ने लॉन्च की नई Super Splendor BS6, इस टेक्नोलॉजी से है लैस

इंजन और पावर
BS-6 Honda Unicorn में PGM-FI HET (होंडा इको टेक्नोलॉजी) वाला 160cc इंजन दिया गया है। यह इंजन पहले के मुकाबले अधिक पावर और ज्यादा एफिशिएंसी देगा। बाइक का इंजन 7500 rpm पर 9.5 Kw पावर और 5500 rpm पर 14 Nm का पीक टॉर्क जनरेट करता है। इस बाइक में 5 स्पीड ट्रांसमिशन दिया गया है।

ब्रकिंग सिस्टम और सस्पेंशन
नई Honda Unicorn BSVI में एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS) के साथ ब्रेक्स दिए गए हैं। बाइक के फ्रंट में 240 mm डिस्क और रियर में 130 mm ड्रम ब्रेक्स हैं। इस बाइक में HET ट्यूलबैस टायर (लो रॉलिंग रेसिसटेंस टायर) दिए गए हैं। वहीं रियर मोनो शॉक सस्पेंशन को सीट के नीचे दिया गया है। सस्पेंशन को एडवांस्ड मजबूत और फ्लेक्सिबल डायमंड फ्रेम पर लगाया गया है।

 Hero Splendor Plus का BS6 वेरिएंट हुआ लॉन्च

बयान
Honda Unicorn BSVI की लॉन्चिंग पर, Honda Motorcycle & Scooter India Pvt. Ltd के (सेल्स और मार्केटिंग) सीनियर वाइस प्रेसिडेंट Yadvinder Singh Guleria ने कहा, "नई एडवांस्ड PGM-FI HET 160cc इंजन के साथ ज्यादा पावर देने वाली Unicorn BSVI कंपनी के भरोसे को आगे बढ़ाएगी और ग्राहकों को काफी पसंद आएगी। यह बाइक मार्केट में 16 साल से अधिक समय तक रहकर Unicorn 25 लाख से ज्यादा परिवारों की पसंद बनी है।”

कमेंट करें
p6Edw
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।