• Dainik Bhaskar Hindi
  • Bollywood
  • Vardhan Puri on OTT platforms ‘If you can reach people's houses with your content then there is nothing better than that’

दैनिक भास्कर हिंदी: ओटीटी प्लेटफार्म के बारे में वर्धन पुरी ने कहा "अगर अच्छे कंटेंट के साथ आप लोगों के घर तक पहुंचते है, तो इससे बेहतर और कुछ नहीं हो सकता"

August 13th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। दिवंगत अभिनेता अमरीश पुरी के पोते, वर्धन पुरी ने 2019 में 'ये साली आशिकी’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। बड़े पर्दे पर आने से पहले युवा हंक अपने आप को  थिएटर में अभिनय कर मनोरंजन की दुनिया में एक्सप्लोर कर रहे थे.  इसके साथ ही वह "इश्कजादे", "दावत-ए-इश्क"  जैसी फिल्मों के अस्सिस्टेंट डायरेक्टर भी थे। 

वर्धन पुरी ने कहा "मैं ऐसे लोगों से आग्रह करूंगा जो लेखक, निर्देशक या अभिनेता बनना चाहता है, वह पहले फिल्मों में सहायक निर्देशक बने, और फिर अपने ड्रीम्स को फॉलो करें, " उन्होंने बताया कि कैमरे के पीछे काम करना आपको बहुत कुछ सीखा देता है, जिससे आपको कैमरे के सामने एक्ट करने में मदद मिलती है। "मैं एक थिएटर अभिनेता था और मैं इससे पहले कभी फिल्म के सेट पर नहीं गया था। मैं फिल्में देखता जरूर था, लेकिन मुझे फिल्म प्रोडक्शन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी। जब मैंने एक सहायक निर्देशक के रूप में फिल्म के सेट पर काम करना शुरू किया तो मैं निर्माता, निर्देशक और विभिन्न विभागों के हेड से मिला उनसे बातचीत की बारीकियां सीखी और मैंने फिल्म स्क्रिप्ट पर काम करना शुरू किया. मैं  रीडिंग, कास्टिंग प्रोसेस और  प्रोडक्शन डिजाइन में शामिल हुआ। इसने मुझे फिल्म निर्माण के बारे में बहुत कुछ सिखाया।"

ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म लॉकडाउन से पहले भी थे, लेकिन पिछले कुछ महीनों में उन्हें काफी अधिक प्रसिद्धि मिली है, जिसमें लॉकडाउन के दौरान घर पर रह रहे लोगों का भी साथ मिला है। इस दौरान फिल्मों का प्रेजेंटेशन ही एक बड़े बदलाव से गुजर रहा है, महामारी के कारण, सिनेमाघरों में फिल्मों को पारंपरिक तरीके के बजाय ओटीटी प्लेटफार्मों पर रिलीज़ किया जा रहा है। इस पर अपनी बात रखते हुए, वर्धन ने कहा "मुझे लगता है कि अपनी फिल्म को एक ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज करना बहुत अच्छा है। यदि आप अपने कंटेंट के साथ लोगों के घरों तक पहुंच सकते हैं तो इससे बेहतर कुछ नहीं है, क्योंकि यह आपके दर्शकों की संख्या को बढ़ाता है। लोग आपकी फिल्म को उनकी सुविधा और आराम के अनुसार देख सकते है, इसलिए मुझे लगता है कि यह एक बहुत अच्छा ऑप्शन  है। ”

हैंडसम स्टार ने आगे कहा कि लोग फिल्मों के लिए सिनेमाघरों में तभी लौटेंगे जब उन्हें पूरी तरह से सिनेमाई अनुभव के लिए बड़े पर्दे की जरूरत होगी, "मैं एक ऐसा व्यक्ति हूँ जिसने रंगमंच, सिनेमा और बड़े पर्दे के विचार को रोमांटिक किया है, लेकिन मुझे लगता है कि यह हमारे दिमाग को बदलने का उचित समय है। मुझे लगता है कि सिनेमा हॉल बहुत जल्द केवल 'बाहुबली' 'अवतार' और 'एवेंजर' जैसी फिल्मों ने अनुभव के लिए ही सीमित रहेंगे। मुझे लगता है कि लोग अपने घरों में कंटेंट कहानी से चलने वाली फिल्में देखना पसंद करेंगे क्योंकि बाहर जाना और मूवी देखना एक महंगा सौदा है, जिसमें टिकट, खाना और ट्रैवलिंग का खर्च शामिल है, और इसके साथ ही यह बहुत ज्यादा टाइम कंज्यूमिंग है। यह सामान्य मध्यवर्गीय परिवारों के लिए बहुत अच्छा ऑप्शन है।