दैनिक भास्कर हिंदी: राजस्थान से शहडोल जा रही 4.15 लाख की शराब, दो गिरफ्तार

May 23rd, 2021



भूसे के ढेर में छिपाकर कर रहे थे तस्करी, आरोपियों को कोर्ट ने 3 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा
डिजिटल डेस्क सतना। राजस्थान के धौलपुर जिले से भूसे के ढेर में छिपाकर ट्रैक्टर-ट्राली के जरिए शहडोल भेजी जा रही 4 लाख की अवैध शराब के साथ दो आरोपियों को पुलिस ने अमरपाटन कस्बे में घेराबंदी कर पकड़ लिया। आबकारी अधिनियम के तहत अपराध दर्ज कर आरोपियों को कोर्ट में पेश करते हुए पूछताछ के लिए 3 दिन की रिमांड मंजूर कराई गई है। टीआई रामहर्ष सोनकर ने बताया कि शनिवार सुबह शराब की तस्करी होने की सूचना मुखबिर के जरिए मिलते ही नगर परिषद कार्यालय के पास नाकाबंदी की गई, तभी बिना नंबर के ट्रैक्टर-ट्राली तेजी से रामनगर रोड की तरफ जाती दिखाई दी, जिसे संदेह के आधार पर रोककर तलाशी ली गई तो ट्राली के चारों तरफ  बांस की टटिया लगी पाई गई जिसके अंदर भूसा भरा था, मगर जैसे ही भूसे की परत हटाई गई तो नीचे शराब की पेटियां दिख गईं। सभी पेटियों और बोतलों में फार सेल इन राजस्थान ओनली लिखा हुआ है।
भूसा हटाते ही दिखी पेटियां-
लिहाजा पूरा भूसा हटाया गया तो ट्राली में 63 पेटी अंग्रेजी शराब, 3 पेटी देशी शराब और 3 पेटी बियर की मिलीं, जिनकी कुल मात्रा 588.06 लीटर और कीमत 4 लाख 15 हजार 640 रूपए निकाली गई। वहीं शराब की तस्करी में इस्तेमाल किया जा रहा बिना नंबर का फार्मट्रैक ट्रैक्टर जब्त किया गया, जिसकी कीमत 6 लाख रूपए थी। मदिरा बरामद होते ही चालक रमेश जायसवाल पुत्र भूरा जायसवाल 22 वर्ष निवासी खारा थाना रामपुर नैकिन जिला सीधी और उसके सहयोगी श्याम जायसवाल पुत्र प्रदीप जायसवाल 25 वर्ष निवासी टिकुरिया टोला थाना कोलगवां को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों के कब्जे से 2 मोबाइल भी जब्त किए गए हैं। आरोपियों को दोपहर बाद जेएमएफसी अमरपाटन कोर्ट में पेश कर रिमांड मांगी गई, जिस पर न्यायालय ने 25 मई तक दोनों को पुलिस को सौंप दिया।
ट्रैक्टर-ट्रांली से साढ़े 4 सौ किलोमीटर का सफर-
पकड़े गए आरोपियों से जब पुलिस ने पूछताछ की तो पता चला कि राजस्थान के धौलपुर जिले के सप्लायर से ट्रैक्टर-ट्राली में शराब लोड करने के बाद ऊपर से भूसे की मोटी परत बिछा दी और चारों तरफ से टटिया लगाकर ग्वालियर, छतरपुर, पन्ना के रास्ते सतना से होते हुए शहडोल जाना था। गौरतलब है कि सख्त कोरोना कफ्र्यू में भी कृषि कार्य के लिए उपयोग होने वाले ट्रैक्टर-ट्राली को छूट दी गई है और चेकिंग में भी सख्ती नहीं की जाती। इसी बात का फायदा उठाकर तस्करी का प्लान बनाया गया था। मगर  अमरपाटन में उनकी योजना को नाकाम कर दिया गया।    
इनको मिली कामयाबी-
इस कार्रवाई में थाना प्रभारी रामहर्ष सोनकर के साथ सब इंस्पेक्टर आशाराम उपाध्याय, एएसआई आरपी वर्मा, प्रधान आरक्षक समरजीत कोल, सुरेंद्र दुबे, दिनेश पनिका और आरक्षक मिथलेश तिवारी ने अहम भूमिका निभाई।

खबरें और भी हैं...