मैहर, नागौद और सतना के 500 गांव अंधेरे में: विद्युत कंपनी में 24 घंटे के टोटल लॉकडाउन से पावर कट की 3200 शिकायतें

August 11th, 2021

डिजिटल डेस्क सतना। जिला मुख्यालय समेत जिले के विद्युत कंपनी के दफ्तरों में 24 घंटे के टोटल लॉकडाउन के दौरान मंगलवार को पावर कट की 32 सौ शिकायतें ऑनलाइन दर्ज हुईं। इनमें से 250 शिकायतें सीएम हेल्प लाइन को मिलीं। जानकारों के एक अनुमान के मुताबिक विद्युत कंपनी के मैहर, नागौद और सतना ग्रामीण संभाग से लगे 500 से भी ज्यादा गांव अंधेरे में चले गए। इसी बीच यहां विद्युत कंपनी के कार्यालयों में कर्मचारियों ने धरना-प्रदर्शन करते हुए विरोध भी जताया। संविदा कर्मी और आउट सोर्स के कर्मचारियों के अलावा मीटर वाचक भी काम पर नहीं आए। उपभोक्ता शिकायत केंद्र और मीटर टेस्टिंग लैब भी बंद रही।
सीयूजी नंबर भी बंद किए :————
उल्लेखनीय है, मध्यप्रदेश यूनाइटेड फोरम फॉर पावर एम्पलाइज एंव इंजीनियर्स के बैनर तले जिले के साढ़े 3 हजार से भी ज्यादा अधिकारी और कर्मचारी 9 अगस्त को रात 12 बजे से 10 अगस्त की रात 12 बजे तक के लिए काम बंद हड़ताल पर चले गए। हड़ताल को जनता यूनियन और विद्युत सेवा निवृत्त कर्मचारी महासंघ के अलावा पावर ट्रांसमिशन के अधिकारियों कर्मचारियों का भी समर्थन हासिल है।
केंद्र सरकार के इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेट बिल -2021 से नाराज फोरम की 18 सूत्री मांगे भी हैं।  देश व्यापी आंदोलन का यह सिलसिला यहां एक अगस्त को 5 दिवसीय विरोध प्रदर्शन के साथ शुरु हुआ था। एक दिवसीय कार्य बहिष्कार के दौरान बिजली अफसरों ने मंगलवार को अपने सीयूजी नंबर भी बंद कर लिए। हड़तालियों के दावे के मुताबिक मांगे नहीं मानी गईं तो 24 अगस्त से 26 अगस्त तक संपूर्ण कार्य बहिष्कार किया जाएगा और 6 सितंबर को अनिश्चितकालीन संपूर्ण कार्य बहिष्कार कर दिया जाएगा।
 किस संभाग में कितनी शिकायतें :———
 (अनुमानित आंकड़े)
 सतना ग्रामीण : 1300
शहर : 600
मैहर  : 450
नागौद : 400
अमरपाटन : 450
 बंद रहे 33 केवी के 22 फीडर :——
जिले में पूर्वी क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के 96 सब स्टेशन हैं। इनसे निकलने वाले
33 /11 केवी के 22 फीडरों की बिजली आपूर्ति बंद रही। कोटर स्थित 132/33/11 केवी पावर स्टेशन से निकलने वाले बिरसिंहपुर फीडर, ट्रांसपोर्ट नगर का 11 केवी बदखर फीडर और टिकुरिया टोला का 11 केवी फीडर भी बंद रहा। बिजली की सर्वाधिक आपूर्ति जिले के मैहर संभाग की प्रभावित रही।  कार्य बहिष्कार की कामयाबी के लिए एसोसिएशन के प्रांतीय उपाध्यक्ष एमजी सक्सेना, रीजनल संयोजक बीपी पटेल, जिला संयोजक शिवेंद्र सिंह बघेल, मृगेंद्र सिंह चंदेल ,अभय सक्सेना, सौरभ तिवारी, अमित मिश्रा, अमित केवट, सतीश तिवारी, कुलदीप मिश्रा, पंकज शुक्ला एवं आरके पटेल ने अहम भूमिका निभाई।

खबरें और भी हैं...