comScore

70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से आई धूल भरी आंधी

70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से आई धूल भरी आंधी

डिजिटल डेस्क सतना। जिला मुख्यालय समेत जिले में लगभग 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पश्चिम से पूर्व की ओर आई धूल भरी आंधियों के बीच जो फंसा,उसे लगा जैसे अम्फान तूफान आ गया? अंधड़ इतना घना और तेज था कि शाम को ही रात जैसे गहरा अंधेरा छा गया। इसी बीच बरसात शुरु हो गई। मूसलाधार बरसात के बीच दहशत के 30 मिनट बमुश्किल कटे। मौसम महकमे के मुताबिक इस बीच जिले में एक इंच बरसात रिकार्ड की गई।
2 डिग्री नीचे गिरा तापमान :---
मौसम के मिजाज में आए इस अप्रत्याशित बदलाव से अधिकतम तापमान में 2 डिग्री सेल्सीयस गिरावट आई है। गुरुवार को यहां अधिकतम तापमान 42.8 डिग्री सेल्सीयस और न्यूतनम तापमान 27.6 डिग्री सेल्सीयस मापा गया। मौसम      मौसम महकमे ने बताया कि एक ओर जहां पूर्वी उत्तर भारत में एक नया पश्चिमी विक्षोभ पहुंच रहा है, वहीं दक्षिणी छत्तीसगढ़ और पश्चिमी बंगाल से सटे इलाकों में चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बनने और इसी बीच मध्यप्रदेश के दक्षिण-पश्चिमी हिस्सों से तमिलनाडु तक  एक ट्रफ बना हुआ। मौसम में अप्रत्याशित बदलाव इन्हीं  स्थितियों का नतीजा है।  
 भारी तबाही की आशंका :-
धूल भरी तेज रफ्तार आंधी के बीच जिले में भारी तबाही की आशंका है। खासकर आम की फसल पूरी तरह से चौपट हो गई है। फौरी तौर पर यह तय नहीं हो पाया है कि क्षति किस हद तक हुई है। मगर, कहीं से किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है। बताया गया है कि चित्रकूट, नागौद, रामपुर, मझगवां ,रामनगर, बेला और रामपुरबघेलान क्षेत्र में बड़ी संख्या में दरख्त गिर गए हैं। कच्चे मकानों के छप्पर उड़ गए हैं। कई पक्की दीवारें गिर गई हैं।  
पावर ग्रिड के 3 टावर उखड़ कर हाईटेेेंशन लाइन पर गिरे :---
 *  15 मिनट के लिए थम गईं श्रमिक स्पेशल टे्रन  
इसी बीच खबर है कि 220 केवी बिजली सप्लाई के पावर ग्रिड के 3 टावर सितपुरा के पास उखड़ कर 132 केवी मझगवां और 132 केवी प्रिज्म की हाईटेंशन लाइन पर जा गिरे। दोनों लाइनें बंद हो गई हैं। उल्लेखनीय है, 132 केवी मझगवां लाइन से रेलवे को सप्लाई दी जाती है। अधिकारियों ने बताया कि हैवी जर्क के कारण जहां बिरसिंंहपुर पाली और बाणसागर स्थित पन बिजली की मशीनें ट्रिप कर गईं, वहीं मुंबई-हावड़ा प्रमुख रेल खंड पर 15 मिनट के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन के चके भी थम कर रह गए।    
टूटे 200 से भी ज्यादा बिजली के पोल :--  
आंधी-अंधड़ और इसी बीच बरसात के कारण जिला मुख्यालय समेत जिले की बिजली आपूर्ति पूरी तरह से ठप हो गई। एक अनुमान के मुताबिक पूर्वी क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी की एचटी और एलटी लाइनों के 200 से भी ज्यादा खंभे टूट कर जमीन पर आ गए। कंपनी सूत्रों ने भी बताया कि रात 10 बजे तक समूचा सतना जिला ब्लैक आउट पर चला गया था। जैसे तैसे देर रात शहरी क्षेत्रों की बिजली आपूर्ति पटरी पर लाई गई। मगर ग्रामीण इलाके सारी रात तरह अंधेरे में रहे।

 

कमेंट करें
0QlGh