दैनिक भास्कर हिंदी: हैप्पी दिवाली के लिए जरा सी सावधानी जरूरी, रखें इन बातों का ध्यान

October 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। दिवाली खुशियों का त्योहार है, लेकिन अगर सावधानी न बरती जाए, तो किसी भी समय कोई अप्रिय घटना हो सकती है। ऐसे में कैसे आप खुद को और अपने बच्चों को सेफ रख सकते हैं, ये बेहद जरूरी है। कुछ सावधानियां बरत कर दिवाली को हैप्पी और सेफ बना सकते हैं। जले भाग को तुरंत ठंडक पहुंचाएं : पटाखों से जलने की स्थिति में तुरंत जले हुए भाग को ठंडक पहुंचाएं। जले हुए हिस्सों को नल के नीचे रखें, जब तक दर्द का अहसास कम न हो। वहां पर बर्फ, मक्खन और ठंडे पानी से भिगोए रखें। कपड़ों से भी सेंक सकते हैं। जलन कम होने पर क्रीम लगाएं।

पटाखे जलाते समय एहतियात बरतें

दिवाली के दौरान इस्तेमाल होने वाले पटाखों से कुछ बच्चे ज्यादा प्रभावित होते हैं। बच्चों की आंखें और स्किन अधिक संवेदनशील होती हैं। इसलिए पटाखे जलाते समय माता-पिता को अधिक सावधान रहना चाहिए। दिवाली के मौके पर पटाखे जलाने के क्रम में कई लोगों के जल जाने की शिकायतें आती हैं। प्रदूषण और तेज धमाकों की वजह से आंखों में जलन, दम घुंटने, हार्ट अटैक और कान से सुनाई नहीं देने जैसी दिक्कतें भी आम बात हैं। ऐसी हालत से बचने के लिए एहतियात जरूरी है। अगर जलने के बाद दर्द हो रहा है, तो इसका मतलब है, हालत ज्यादा गंभीर नहीं है। ऐसे में जले हुए हिस्से को पानी की धार के नीचे रखना चाहिए। इससे न सिर्फ जलन शांत होगी, बल्कि त्वचा पर छाले भी नहीं पड़ेंगे।

प्रोटेक्टिव कपड़े ही पहनें 

अक्सर दीये जलाते या पटाखे फोड़ते समय कपड़ों में आग पकड़ लेती है पटाखे छोड़ते समय सिंथेटिक कपड़े नहीं पहनना चाहिए। बच्चों के साथ बड़ों को भी चाहिए कि पटाखे जलाते समय कॉटन के कपड़े ही पहनें। ऐसे समय ढीला-ढाला कपड़ा नहीं पहनना चाहिए। इस समय हमेशा प्रोटेक्टिव कपड़े ही पहनें। महिलाओं को अपनी साड़ी के पल्लू को हमेशा बांध कर या लपेट कर ही पटाखा जलाना चाहिए। यदि आप लहंगा या लांग सूट पहनी हैं, तो कपड़ों पर विशेष ध्यान दें। अपने बच्चों को भी ढीले कपड़े न पहनाएं।

कपड़ों में आग पकड़े तो जमीन पर रोल करें : यदि पटाखा जलाते समय कपड़ों में आग पकड़ ले, तो तुरंत जमीन पर खुद को रोल करें, इससे आग बुझ जाती है। जैकेट या कंबल से जले हुए व्यक्ति को कवर करें। इस दौरान धैर्य रखें और जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर के पास उपचार के लि ले जाएं।

फर्स्ट-एड बॉक्स साथ रखें

पटाखा जलाते समय विशेष सावधानी बरतें। पटाखों से जलने के बाद छोटी-सी लापरवाही आपके लिए कई बड़ी समस्याएं खड़ी कर सकती है। इसलिए फर्स्ट-एड बॉक्स अपने साथ रखें।

खुली जगह पर पटाखे फोड़ें

सबसे अधिक दुर्घटना बच्चों में देखी जाती है। बच्चों को पैरेंट्स अपनी देखरेख में पटाखे जलाने दें। हमेशा खुली जगह पर पटाखे फोड़ें। जगह खुली होने पर दुर्घटना होने की आशंका काफी कम हो जाती है।

जलने पर घबराएं नहीं

बच्चों के 10 फीसदी और बड़ों के 15 फीसदी तक जलने पर घबराने की जरूरत नहीं। जले हुए हिस्से को बहते पानी में तब तक रखें, जब तक जलन शांत न हो जाए। नीली दवा, स्याही वगैरह न लगाएं। दवा या क्रीम लगाने से डॉक्टर को पता नहीं चल पाता कि किस तरह का बर्न है।

घरेलू इलाज करने से बचें

जलने वाले स्थान पर कोई भी क्रीम न लगाएं। अगर जलन शांत न हो, तो ऑलिव ऑयल लगाएं। ज्यादा जलने पर घरेलू इलाज करना सही नहीं है। परेशानी कम न हो तो फौरन नजदीक के डॉक्टर के पास जाएं।