दैनिक भास्कर हिंदी: प्राइवेट हॉस्पिटल में युवक की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

December 10th, 2017

डिजिटल डेस्क, कटनी। शनिवार की सुबह एक निजी हॉस्पिटल में दाखिल मरीज की मौत होने पर परिजनों द्वारा जमकर हंगामा मचाया गया। हंगामे की जानकारी लगते ही सिटी पुलिस का एक दल मौके पर पहुंचा तथा हंगामा कर रहे परिजनों को शांत कराते हुए शव को परीक्षण के लिए जिला हॉस्पिटल भिजवाया गया। परिजनों ने मरीज के इलाज में लापरवाही का आरोप निजी चिकित्सकों पर लगाया है। पुलिस ने मामले की विवेचना शुरू कर दी है।

यह है मामला
कुशवाहा नगर थाना कुठला निवासी 26 वर्षीय राजकिशोर विश्वकर्मा पिता घनश्याम विश्वकर्मा को पाइल्स की बीमारी के चलते ऑपरेशन के लिए परिजनों द्वारा करीब 6 दिन पूर्व नई बस्ती स्थित डॉ. हरचंदानी हास्पिटल में दाखिल कराया गया था, जहां युवक का ऑपरेशन किया गया। 3 दिन तक युवक की हालत ठीक रही लेकिन पिछले दो दिनों से लगातार उसकी हालत बिगडऩे पर परिजन उसे शुक्रवार की शाम इलाज के लिए चांडक हास्पिटल ले आए जहां उसे दाखिल कर इलाज शुरू कर दिया गया। शनिवार की सुबह करीब साढ़े 8 बजे इलाज दौरान राजकिशोर की मौत हो गई।

किडनी फेल होने से हुई मौत
युवक की मौत होने पर परिजनों को आश्चर्य हुआ तथा जब उन्होंने डॉक्टर से जानकारी हासिल की तो उन्हें बताया गया कि किडनी फेल होने से राजकिशोर की मौत हुई है। जिस पर परिजनों ने चांडक हॉस्पिटल में हंगामा शुरू कर दिया। परिजनों ने इस बात पर हंगामा शुरू किया  कि पाइल्स के मरीज की किडनी कैसे फेल हो गई। उन्होंने दोनों हॉस्पिटल प्रबंधनों पर इलाज में लापरवाही की आशंका व्यक्त करते हुए डॉक्टरों पर आरोप लगाने शुरू कर दिए।

पुलिस ने शुरू की मर्ग विवेचना
सुबह करीब 11 बजे हंगामे की सूचना सिटी कोतवाली पुलिस को मिली। जिस पर सिटी टीआई शैलेष मिश्रा, एसआई श्वेता सिंह सहित पुलिस अमला मौके पर पहुंचा तथा परिजनों को समझाइश देकर शव का पोस्टमार्टम कराया गया। मर्ग कायम कर विवेचना शुरू कर दी गई है। पुलिस ने बताया कि अब तक कि प्रारंभिक विवेचना में जहां एक ओर चांडक हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा मरीज के ब्लड में क्रिएटिन बढऩे की वजह से किडनी फेल होने की जानकारी दी जा रही है तो वहीं हरचंदानी हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा मरीज का ब्लड कम होने की वजह से ऑपरेशन दौरान ब्लड चढ़ाये जाने की जानकारी देते हुए पुलिस को यह भी बताया कि मरीज का खून कम होने से उसकी हालत बिगड़ी थी।