ऊंचाई की बंदिशें खत्म: दो साल बाद गणपति बप्पा ले सकेंगे शहर में मनचाहा आकार

July 22nd, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। दो साल से ऊंचाई के बंधन में बंधे गणपति बप्पा मुक्त हो चुके हैं। सरकार ने मूर्ति की ऊंचाई से पाबंदी हटाने की घोषणा की है। उपराजधानी में गणेश मूर्ति की ऊंचाई पर पाबंदी को लेकर शहर में जमकर विरोध हुआ था। आठ दिन पहले शहर के नेताओं, मूर्तिकारों, मंडल के पदाधिकारियों व गणेशोत्सव पर निर्भर अन्य व्यवसायियों ने मनपा के अतिरिक्त आयुक्त राम जोशी से मिलकर उनसे ऊंचाई की पाबंदी हटाने की मांग की थी। इस पर मनपा ने कोई निर्णय नहीं लिया था। अब शुक्रवार को सरकार की तरफ से सूचना आते ही मनपा द्वारा अपनी नियमावली जारी की जाएगी। 

इसलिए बनी थी परेशानी 

कोरोनाकाल को देखते हुए शहर में मूर्तियों की ऊंचाई का नियम लागू किया गया था। सार्वजनिक मंडलों की मूर्तियों की अधिकतम ऊंचाई 4 फीट और घरेलू मूर्तियों की ऊंचाई 2 फीट तय की गई थी। सामान्य स्थिति होने के कारण इस साल राज्य के अनेक शहरों से ऊंचाई की पाबंदी हटा दी गई थी, लेकिन नागपुर में यह नियम बरकरार रखा गया था। 

विसर्जन की करनी होगी व्यवस्था : नागपुर महानगर पालिका ने शहर के तालाबों में मूर्तियों के विसर्जन पर पाबंदी लगा दी है। शहर भर के अनेक स्थानों पर कृत्रिम तालाबों की व्यवस्था की जाती है, लेकिन बड़ी मूर्तियों के विसर्जन के लिए मनपा के पास कोई व्यवस्था नहीं है। फुटाला तालाब सौंदर्यीकरण के बाद यहां भी विसर्जन नहीं किया जा सकता। मनपा सूत्रों के अनुसार, शहर के बाहरी क्षेत्र में बहने वाली नदियों में विसर्जन की व्यवस्था की जा सकेगी। हालांकि इस पर अभी निर्णय नहीं लिया गया है। 

पीओपी मूर्तियों के लिए तकनीकी समिति : जानकारी के अनुसार, मनपा द्वारा पीओपी मूर्तियों को लेकर तकनीकी विशेषज्ञों की समिति बनाई जाएगी। इसमें एमपीसीबी, नीरी, आईआईटी, एनसीएल के विशेषज्ञ रहेंगे। पीओपी मूर्तियों के विसर्जन से पर्यावरण को नुकसान न हो, इसके लिए विशेषज्ञों द्वारा बताए गए उपाय योजनाओं पर मनपा अमल करेगी।  

सरकार के निर्देशों का पालन होगा

राम जोशी, अतिरिक्त आयुक्त, मनपा के मुताबिक गणेशोत्सव को लेकर सरकार द्वारा प्राप्त दिशा-निर्देशों का पूरा पालन किया जाएगा। मूर्तियों के विसर्जन के लिए व्यवस्था की जाएगी। पीओपी मूर्तियों के लिए समिति बनाई जाएगी। सरकार द्वारा जो मार्गदर्शक सूचनाएं दी जाएंगी, उसके अनुसार गणेशोत्सव के लिए मनपा प्रशासन द्वारा तैयारी की जाएगी।