दैनिक भास्कर हिंदी: भागलपुर हिंसा : पिता अश्विनी चौबे ने FIR को बताया 'कचरा', बेटा बोला- नहीं करूंगा सरेंडर

March 26th, 2018

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार के भागलपुर में एक जुलूस के दौरान हिंसा भड़काने का आरोप झेल रहे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अरिजीत शाश्वत ने सोमवार को सरेंडर करने से मना कर दिया। दरअसल, अरिजित शाश्वत समेत 9 लोगों के खिलाफ अरेस्ट वॉरंट जारी होने के बाद उन्होंने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि 'मैं सरेंडर नहीं करूंगा। मैं कहीं भाग नहीं रहा हूं।' वहीं उनके बचाव में कहते हुए उनके पिता अश्विनी चौबे ने FIR को सिर्फ एक 'कागज का कचरा' बताया है। इस बीच बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार में पुलिस क्या कर रही है। जब वॉरंट जारी हो गया है, तो आगे की कार्रवाई की जाए। बता दें कि अरिजित शाश्वत पर भागलपुर में दो समुदायों के बीच हिंसा फैलाने का आरोप है।

मैं सरेंडर नहीं करूंगा : अरिजीत

शनिवार को अरेस्ट वॉरंट जारी होने के बाद सोमवार को मीडिया से बात करते हुए अरिजीत शाश्वत ने कहा कि 'मैं सरेंडर नहीं करूंगा। सरेंडर करने जैसी कोई बात भी नहीं है। जब कोर्ट वॉरंट जारी करती है, तो वो शरण भी देती है। लोग कह रहे हैं कि मैं गिरफ्तारी से बचने के लिए छिप रहा हूं, लेकिन ऐसा नहीं है। मैं घर पर ही हूं। समाज के बीच में ही हूं। अगर पुलिस मुझे गिरफ्तार करने आती है, तो मैं वहीं करूंगा, जो मुझे वो कहेंगे।' अरिजीत ने ये भी बताया वो अरेस्ट वॉरंट के खिलाफ कोर्ट में अग्रिम जमानत की अपील भी करेंगे।

 



FIR सिर्फ कागज का कचरा है : अश्विनी चौबे

वहीं केंद्रीय मंत्री और अरिजीत के पिता अश्विनी चौबे ने अपने बेटे का बचाव करते हुए कहा कि FIR एक 'कागज का कचरा' है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 'FIR कुछ नहीं बल्कि कागज का कचरा है, जिसे इलाके के कुछ भ्रष्ट अधिकारियों ने दर्ज किया था। मेरे बेटे ने कोई गलती नहीं की।' उन्होंने कहा कि 'जो पाप करता है, वो भागता है। मेरे बेटे ने कुछ गलत नहीं किया। उसने भारत माता की जय, वंदे मातरम और जय श्री राम के नारे लगाए। इसमें क्या गलत है? बिहार में जितनी घटनाएं हो रही हैं, उनके पीछे आरजेडी और कांग्रेस के लोगों का हाथ है।'

 

 



तेजस्वी बोले- नीतीश कुमार का मजाक बना दिया

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्वीटर पर इस मामले में अभी तक गिरफ्तारी नहीं होने पर नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। तेजस्वी ने अरिजीत शाश्वत को आड़े हाथ लेते हुए ट्वीट किया 'ये लड़का लगातार नीतीश कुमार को चैलेंज कर रहा है। वो नीतीश कुमार का मजाक बना रहा है। मिस्टर सीएम की धरती पर कानून व्यवस्था कहां है? वो दंगा भड़काने के मामले में वॉन्टेड है। ये नीतीश सरकार के लिए शर्मनाक है।'

स्वामी ने पूछा- क्या कर रही है पुलिस?

इस मामले में बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 'बिहार के सीएम नीतीश कुमार से पूछना चाहिए कि ये सब क्या हो रहा है? पुलिस क्या कर रही है? अगर पुलिस के पास वॉरंट है, तो उसे आगे बढ़ना चाहिए और आरोपी को गिरफ्तार करना चाहिए।'

क्या है पूरा मामला?

दरअसल 17 मार्च को भागलपुर के नाथनगर के चंपानगर से शोभायात्रा निकाली गई थी। ये शोभायात्रा अरिजीत शाश्वत के नेतृत्व में निकाली गई थी और उनपर आरोप है कि उसने शोभायात्रा निकालने से पहले प्रशासन की इजाजत नहीं ली। इसी यात्रा के दौरान नारेबाजी के चलते हिंसक झड़प हुई और बाद में अरिजीत को आरोपी मानते हुए उनपर FIR दर्ज की गई। हालांकि अरिजीत का कहना है कि उसने शोभायात्रा निकालने के लिए प्रशासन से इजाजत ली थी।