comScore

जीजा का गला घोंटा, हत्या को दुर्घटना साबित करने साले ने शव को रेल पटरी के किनारे फेंका

जीजा का गला घोंटा, हत्या को दुर्घटना साबित करने साले ने शव को रेल पटरी के किनारे फेंका

डिजिटल डेस्क जबलपुर। मदन महल रेलवे स्टेशन के पास  रेल पटरी के किनारे अजीबो-गरीब अवस्था में मिले शव की पहचान करने के बाद जीआरपी ने अँधी हत्या को दुर्घटना साबित करने की गुत्थी को सुलझाते हुए, साजिश का पर्दाफाश कर दिया। हत्या का आरोपी मृतक का साला निकला, जो इस बात से खफा था कि उसका जीजा उसकी बहन को शादी के बाद से हर रोज शराब पीने के बाद पीटता और प्रताडि़त किया करता था। आखिरकार उसने शराबी जीजा से  पीछा छुड़ाने के लिए पहले उसका गला घोंटकर मार दिया और उसके बाद हत्या को दुर्घटना का रूप देने के लिए, शव को रेल लाइन के किनारे फेंक दिया, ताकि किसी को शक न हो।
जीआरपी पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आयोजित पत्रकारवार्ता में एसआरपी सुनील कुमार जैन ने बताया कि 13 अक्टूबर को एक अज्ञात युवक का शव मदन महल रेलवे स्टेशन के पास रेल लाइन के किनारे संदिग्ध हालत में मिलने की सूचना मदन महल जीआरपी चौकी प्रभारी राजेश राज को मिली थी। जिसकी पड़ताल के दौरान  पाया कि शव का कोई हिस्सा ट्रेन से टकराया नहीं है, कोई घाव या घिसटने के जख्म भी नहीं हैं, लाश के पास खून की एक बूंद भी नहीं है, हालाँकि गले में रगड़ के निशान थे। जब उन्होंने शव की नाक में रुई लगी देखी तो उनका माथा ठनका, उन्होंने इस बारे में एसआरपी श्री जैन को बताया। जिसके आधार पर एसआरपी ने राजेश राज के नेतृत्व में प्रधान आरक्षक सुशील, विनय, प्रमोद, हरस्वरूप, प्रिया और आर रवि को मामले की जाँच की जिम्मेदारी सौंपी। 
मदन महल थाने में बंद कराने ले गया था 
जाँच के दौरान मुखबिर ने सूचना दी कि मैकेनिक जोन के पास नितिन उर्फ नितेश पटेल नामक युवक रहता है, जिसकी फोटो मृतक से मिलती थी। टीम जब उसके घर पहुँची तो मृतक की पत्नी प्रिया ने बताया कि 12 अक्टूबर की रात को  उसका पति शराब पीकर आया और उसके साथ मारपीट करने लगा, तो उसने अपने भाई विनय पटेल, जो कि ऑटो चलाता है,  को बुलाया लिया।  
  विनय ने नितिन को समझाया लेकिन वो हाथापाई पर उतारू हो गया। इसी बीच विनय ने उसे मारा तो वो गिरकर बेहोश हो गया। विनय ने कहा कि वो सबक सिखाने के लिए नितिन को मदन महल थाने में बंद कराने ले जा रहा है। नितिन को ऑटो में लाद कर वो घर से बाहर निकल गया। 
पड़ताल शुरू की गई, तब सच सामने आया 
 प्रिया ने बताया कि घटना के चार दिनों बाद तक जब उसका पति घर नहीं आया, तो उसकी चिंता बढ़ गई। उसने भाई से पूछा तो उसने कहा कि उसने नितिन को थाने में बंद करवा दिया है, कुछ दिन बंद रहेगा तो दिमाग ठिकाने लग जाएगा। प्रिया की बात सुनकर शक की सुई विनय की ओर घूूम गई।  जब जीआरपी की टीम ने विनय से कड़ी पूछताछ की तो उसने सच उगल दिया। विनय ने बताया कि उसने घर से निकलने के बाद  गमछे से जीजा का गला घोंट दिया था और उसे मदन महल स्टेशन के पास रेल पटरी के किनारे फेंक दिया, ताकि देखने में ऐसा लगे कि ट्रेन से टकराने के कारण किसी की मौत हो गई है। 
 एसआरपी श्री जैन ने बताया कि विनय ऑटो चलाता है। मदन महल रेल लाइन किनारे उसने कई बार ट्रेनों से टकराकर क्षत-विक्षत लाशें देखी थीं,  इसलिए उसने अपने जीजा को भी ठिकाने लगाने के लिए रेल पटरी का किनारा ही चुना।
 

कमेंट करें
JnXW2
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।