comScore

भैंस खरीदी के बहाने करते थे रेकी और चुरा लेते थे बकरियां

भैंस खरीदी के बहाने करते थे रेकी और चुरा लेते थे बकरियां


डिजिटल डेस्क सतना। जिले में काफी समय से भेंड़-बकरियों की चोरी और तस्करी करने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश करते हुए जसो पुलिस ने 4 महिलाओं को गिरफ्तार किया है, जिनके कब्जे से साढ़े 4 लाख के मवेशी मुक्त कराए गए  हैं, लेकिन गिरोह का लीडर पकड़ में नहीं आया। उक्त जानकारी देते हुए थाना प्रभारी केपी त्रिपाठी ने बताया कि कोटरिहा निवासी जगलाल पुत्र जलेबी यादव 40 वर्ष की 4 भंैस बीते 1 नवम्बर 19 को चोरी हो गई थी। पीडि़त की शिकायत पर कायमी कर जांच करते हुए खूंथी निवासी राकेश चौधरी पुत्र पन्नालाल चौधरी को पकड़ लिया गया था। आरोपी से पशु तस्करी में इस्तेमाल पिकअप क्रमांक एमपी 19 जीए 4495 के साथ 9 हजार रुपये भी बरामद किए गए थे। पूछताछ में आरोपी ने अपने गिरोह के बारे में काफी कुछ बताया तो उसके मोबाइल की जांच में शातिर बदमाश बड़का उर्फ नत्थू सांई पुत्र छोटे सांई निवासी ठाड़ी-पाथर थाना कोठी का नाम सामने आया था। विगत  ढाई माह से बड़का तक पहुंचने के प्रयास किए जा रहे थे। इसी बीच खबर मिली कि उसके गिरोह ने सिविल लाइन थाना क्षेत्र में पेप्टेक सिटी के पीछे डेरा डाल रखा है। लिहाजा पुलिस टीम ने शुक्रवार रात को दबिश देते हुए असल जान उर्फ भूरी पति दादू सांई 45 वर्ष, रवीना पति अब्दुल सांई 40 वर्ष, फुलवा जान उर्फ बेटी बाई पति बाबू सांई 70 वर्ष और सलमान जान पति चाचू पठान 45 वर्ष निवासी खैरहनी दरवाजा जिला छतरपुर हाल ठाड़ी-पाथर थाना कोठी को गिरफ्तार कर लिया।
इन वारदातों का खुलासा
इन महिलाओं के कब्जे से 68 भेंड़ और 13 बकरियों को मुक्त कराया गया, जिनकी कीमत 4 लाख 55 हजार रुपये थी। पूछताछ में आरोपियों ने खुलासा किया कि 58 भेंड़ और 9 बकरियां 5 फरवरी 2019 को जसो क्षेत्र के शिवरामपुर निवासी आनंद पाल पुत्र बेटालाल पाल 19 वर्ष   के घर से चोरी की गई थी, जिनकी कीमत 3 लाख 60 हजार रुपये थी। इस वारदात की शिकायत पर आईपीसी की धारा 379, 401, 413 और 414 के तहत कायमी की गई थी। वहीं उमरी निवासी शीलू पाल पुत्र नर्मदा पाल 30 वर्ष के घर से 4 अप्रैल की रात को 10 भेंड़ और 4 बकरियों की चोरी की गई थी। महिलाओं के कब्जे से 4 मोबाइल फोन और सरगना की बाइक भी बरामद की गई है। यह गिरोह दिन में गांव-गांव घूमकर भंैस खरीदने की आड़ में रेकी करता था और रात में चिन्हित स्थान पर वारदात कर गायब हो जाता था। इसी गिरोह ने वर्ष 2014 में बरौंधा थाना क्षेत्र के एक आदिवासी को बंधक बनाकर बकरियां लूट ली थीं। इनके खिलाफ कोठी और पन्ना जिले के देवेंद्रनगर में भी अपराध दर्ज हैं। मौके से भागे गैंग लीडर नत्थू सांई की सरगर्मी से तलाश की जा रही है।
टीम को दिया इनाम
गिरोह को पकडऩे वाली टीम में थाना प्रभारी के साथ साइबर सेल इंचार्ज अजीत सिंह, प्रधान आरक्षक मुकेश कुमार, दीपेश पटेल, आरक्षक विपेन्द्र मिश्रा, जगन्नाथ सिंह, श्रवण शर्मा, पुष्पेन्द्र नाथ, संजय यादव, विष्णु देव गौतम, संजय यादव, प्रशांत यादव, मनीष सिंह, अखिलेश्वर सिंह, नवीन चतुर्वेदी, कीर्ति शुक्ला और राहुल दुबे शामिल थे। पुलिस कप्तान रियाज इकबाल ने 10 हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की है।

कमेंट करें
dPq5T